लंदन में लेक्चर देने गए पाकिस्तान विदेश मंत्री की कनाडा के पत्रकार ने कर डाली बेइज्जती

'डिफेंड मीडिया फ्रीडम' नामक एक कार्यक्रम की प्रेस कॉन्‍फ्रेंस में विदेश मंत्री महमूद कुरैशी की कनाडा के सोशल मीडिया ऐक्टिविस्ट और पत्रकार एजरा लेवेंट से तीखी कहासुनी भी हो गई.

लंदन: पाकिस्‍तान के विदेश मंत्री शाह महमूद कुरैशी को लंदन में एक कॉन्फ्रेंस के दौरान शर्मसार होना पड़ा. लंदन में प्रेस की आजादी पर आयोजित एक कॉन्फ्रेंस में जब कुरैशी पहुंचे तो उस वक्त कुर्सियां खाली दिखीं. मीडिया पर संवाद करने लंदन पहुंचे कुरैशी को पत्रकार समुदाय के बहिष्कार और विरोध का भी सामना करना पड़ा.

विदेश मंत्री महमूद कुरैशी की कनाडा के सोशल मीडिया ऐक्टिविस्ट और पत्रकार एजरा लेवेंट से तीखी कहासुनी भी हो गई. कुरैशी को कनाडा के जर्नलिस्‍ट ने जमकर फटकारा और उन पर आरोप लगाया कि प्रधानमंत्री इमरान खान की सरकार की शिकायत के बाद कुरैशी ने उनका ट्विटर अकाउंट ब्लॉक करवा दिया था.

‘डिफेंड मीडिया फ्रीडम’ पर बोल रहे थे कुरैशी

गुरुवार को यह वाकया उस समय हुआ जब कुरैशी ‘डिफेंड मीडिया फ्रीडम’ नामक एक कार्यक्रम की प्रेस कॉन्‍फ्रेंस में मौजूद थे. जिस कार्यक्रम में कुरैशी मौजूद थे वहां के एक वीडियो में साफ नजर आ रहा है कि कुर्सियां खाली पड़ी हैं और प्रेस कॉन्‍फ्रेंस के लिए ज्‍यादा लोग मौजूद नहीं थे.

कॉन्फ्रेंस के दौरान कुरैशी से पाकिस्तान में सेंसरशिप को लेकर सख्त सवाल पूछे गए. हाल ही में, पाकिस्तान की इलेक्ट्रॉनिक मीडिया नियामक संस्था ने जेल में बंद पाकिस्तान के पूर्व राष्ट्रपति आसिफ अली जरदारी का इंटरव्यू प्रसारित करने को लेकर तीन निजी चैनलों के ट्रांसमिशन को सस्पेंड कर दिया था.

‘आपको शर्मिंदा होना चाहिए’

विदेश मंत्री पर भड़कते हुए पाक पत्रकार लेवेंट ने लिखा, ‘आपने मुझे सेंसर किया, मेरा कनाडा में ट्विटर अकाउंट है. मेरे ट्वीट से पाकिस्तान के ईशनिंद कानून का उल्लंघन हुआ इसलिए आपकी सरकार ने मेरा ट्विटर अकाउंट ब्लॉक करवा दिया.

क्या आप बता सकते हैं कि पाकिस्तान में आपकी इस्लामिक सुप्रीमेसी कनाडा में मेरी पत्रकारिता की स्वतंत्रता पर कैंची क्यों चला रही है? पत्रकार ने आगे कहा, आपको शर्मिंदा होना चाहिए, आप कौन होते हैं कनाडा में मुझे चुप कराने वाले? आपको अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता बिल्कुल पसंद नहीं है.’

पाकिस्तानी पत्रकार मुनीजे जहांगीर ने इस घटना का वीडियो शेयर किया है. इस वीडियो में लेवेंट कहते हैं कि आयोजकों को इस तरह के ‘सेंसर लगाने वाले ठग’ को आमंत्रित करने के लिए शर्मिंदा होना चाहिए. लेवेंट ने आगे कहा कि अभिव्यक्ति की आजादी पर मंत्री का दोगलापन साफ दिखता है.

‘कुरैशी को कहा ठग’

लेवेंट ने कार्यक्रम के आयोजकों को कहा कि उन्‍हें इस बात पर शर्म आनी चाहिए कि उन्‍होंने एक ऐसे ‘ठग’ को इनवाइट किया है जों सेंसरशिप में आगे है और यहां पर फ्री स्‍पीच की बात करेंगे. लेवेंट ने कुरैशी पर दोहरा मानदंड अपनाने का भी आरोप लगाया.

कुरैशी ने आरोपों के जवाब में कहा कि लेवेंट अपने ट्विटर हैंडल पर किसी खास एजेंडा को आगे बढ़ा रहे थे. कुरैशी ऐसे मौके पर लंदन में मीडिया से जुड़े कार्यक्रम में हिस्‍सा लेने के लिए पहुंचे थे जब पिछले दिनों पाकिस्‍तान के पूर्व राष्‍ट्रपति आसिफ अली जरदारी के एक टीवी इंटरव्‍यू को सेंसर कर दिया गया था.

इस घटना के पाकिस्‍तान इलेक्‍ट्रॉनिक मीडिया रेगुलेटरी अथॉरिटी (पामेरा) ने तीन प्राइवेट टीवी चैनल्‍स को इसलिए सस्‍पेंड कर दिया क्‍योंकि उन्‍होंने जरदारी का इंटरव्‍यू टेलीकास्‍ट किया था.