‘अंधेर नगरी चौपट राजा’ कहावत से शिवराज सिंह ने कमलनाथ पर क्यों कस दिया तंज

मंगलवार को मीडिया से बात करते हुए शिवराज सिंह ने कमलनाथ सरकार पर प्रदेश में प्रशासनिक अराजकता फैलाने का आरोप लगाया.

भोपाल: मध्य प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने प्रदेश की कांग्रेस सरकार पर निशाना साधा. उन्होंने मुख्यमंत्री कमलनाथ के 6 महीने के कार्यकाल पर सवाल खड़े किए.  शिवराज सिंह चौहान ने वर्तमान सरकार पर तंज कसते हुए मीडिया से कहा कि ‘प्रदेश में चारों तरफ अराजकता की स्थिति है, लेकिन मुख्यमंत्री कमलनाथ आंखों पर पट्टी बांधकर बैठ गए हैं.

एक कहावत सुनी थी- अंधेर नगरी चौपट राजा. यहां की सरकार ने मध्य प्रदेश को पूरी तरह से अंधेरे में पहुंचा दिया है. राजधानी में हर तरफ कानून व्यवस्था ठप हो गई है. बच्चियों पर अत्याचार बढ़ते जा रहे हैं. अगर प्रदेश सरकार बच्चियों की सुरक्षा के लिए प्रभावी कदम नहीं उठाती है तो हमें सरकार के खिलाफ सड़कों पर उतरना पड़ेगा.’

उन्होंने आगे कहा, ‘राजधानी भोपाल में पिछले 10 दिनों से कलेक्टर नहीं है. अपने-अपने आदमी को कलेक्टर बनाने के लिए अपना-अपना गुट का नाम चला रहे हैं. 10 दिन से भोपाल में कलेक्टर की पोस्ट खाली है, लेकिन फिर भी कलेक्टर की नियुक्ति नहीं की गई, क्योंकि कांग्रेस सरकार तबदला उद्योग में व्यस्त है.

कार्यालय में हर पोस्ट की बोली लग रही है. देश भर में ऐसी प्रशासनिक अराजकता का माहौल नहीं देखा. यहां लोगों को पीने के लिए पानी नहीं मिल रहा है, लोग पानी के लिए तरस गए हैं. किसान भी परेशान हैं, लेकिन सरकार आंख पर पट्टी बांधकर बैठी है. प्रदेश भर में प्रशासनिक अराजकता का माहौल है.’

बिजली संकट के विरोध में चिमनी यात्रा

प्रदेश में बिजली संकट के विरोध में भाजपा पूरे प्रदेश में चिमनी यात्रा निकालेगी. पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष राकेश सिंह के मुताबिक सभी जिला मुख्यालयों पर आम लोगों के साथ पार्टी के कार्यकर्ता बुधवार शाम 7 बजे चिमनी यात्रा निकालेंगे. चिमनी यात्रा के साथ पार्टी ढोल नगाड़े भी लेकर चलेगी जिसके सरकार तक उनकी आवाज पहुंच सके. राकेश सिंह ने कमलनाथ सरकार को घेरते हुए कहा कि सरकार पानी और बिजली जैसे समस्याओं पर अपनी जिम्मेदारी निभाने के बजाए हर दिन नए बहाने कर रही है.

ये भी पढ़ें- 192 घंटे बाद अरुणाचल की पहाड़ी पर मिला AN-32 का मलबा, 13 लोग थे सवार

ये भी पढ़ें- ‘बेवकूफी भरा बर्ताव कर रहे हैं यूपी सीएम’, योगी पर क्‍यों भड़के राहुल गांधी?