भाजपा प्रत्याशी को शिकस्त देकर सबसे युवा सांसद बनीं 25 साल की चंद्राणी मुर्मू

ओडिशा से बीजेपी की भी दो महिला उम्मीदवार इस बार संसद पहुंच रही हैं. बीजेपी ने छह महिलाओं को उम्मीदवार बनाया था. राज्य से इस बार कुल मिलाकर सात महिला सांसद लोकसभा में बैठेंगी.

नई दिल्ली: 17वीं लोकसभा में ओडिशा की इंजीनियरिंग ग्रेजुएट चंद्राणी मुर्मू सबसे युवा सांसद बनीं. मुर्मू की उम्र अभी केवल 25 साल 11 महीने है. उन्होंने राज्य की आदिवासी बाहुल्य क्योंझर सीट से बीजद के टिकट पर चुनाव लड़ा और दो बार के भाजपा सांसद अनंत नायक के खिलाफ 66,203 वोट से जीत हासिल की. 16 जुलाई को उनका 26वां जन्मदिन है. उम्मीद है कि इससे पहले वे शपथ ले लेंगी.

राजनीति से नहीं रहा कोई वास्ता
चंद्राणी के परिवार से कोई भी राजनीति में नहीं है. चंद्राणी के माता-पिता सरकारी नौकरी करते हैं. चंद्राणी ने चुनाव में बीजेपी के उम्मीदवार अनंत नायक को करीब 66200 मतों के अंतर से हराया है. अनंत नायक बीजेपी के टिकट से क्योंझर से दो बार सांसद रहे चुके हैं. सबसे पहले उन्होंने 1999 में जीत हासिल की थी. फिर 2004 में भी जीत हासिल कर वह लोकसभा पहुंचे थे.

चाचा के कहने पर लड़ा चुनाव
चंद्राणी 2017 में भुवनेश्वर के कॉलेज से बीटेक करने के बाद सरकारी नौकरी की तैयारी कर रही थीं. मार्च में चाचा हरमोहन सोरेन ने उनसे चुनाव लड़ने के बारे में पूछा था, तब चंद्राणी ने इसे गंभीरता से नहीं लिया. नौकरी से रिटायर होकर सामाजिक कार्यों में जुटे हरमोहन को लगता था कि भाजपा उम्मीदवार के खिलाफ चंद्राणी योग्य उम्मीदवार हो सकती हैं. इसके लिए उन्होंने बीजद नेताओं से संपर्क किया. 1 अप्रैल को मुख्यमंत्री कार्यालय से मैसेज मिला कि चंद्राणी का टिकट फाइनल हो गया है.

ओडिशा से सात महिला सांसद
ओडिशा से बीजेपी की भी दो महिला उम्मीदवार इस बार संसद पहुंच रही हैं. बीजेपी ने छह महिलाओं को उम्मीदवार बनाया था. राज्य से इस बार कुल मिलाकर सात महिला सांसद लोकसभा में बैठेंगी. जीतने वाली इन सांसदों में प्रमिला बिसोयी (आसका, बीजद), मंजुलता मंडल (भद्रक, बीजद), राजश्री मलिक (जगतसिंहपुर, बीजद), शर्मिष्ठा सेठी (जाजपुर, बीजद) चंद्राणी मुर्मू (क्योंझर, बीजद), अपराजिता सडांगी (भुवनेश्वर, बीजेपी) और संगीता कुमारी सिंहदेव (बलंगिरी, बीजेपी) शामिल हैं.