”मैं मौत के लिए तैयार”, पूर्ण राज्‍य के लिए अरविंद केजरीवाल का ऐलान-ए-अनशन

शनिवार को दिल्ली के मुख्यमंत्री ने दिल्ली विधानसभा में ऐलान कर दिया कि- “1 मार्च से मैं अनशन पर जा रहा हूं. मैं तब तक अनशन पर रहूंगा, जब तक कि दिल्ली को पूर्ण राज्य का दर्जा नहीं मिल जाता. ऐसा करते हुए मैं मौत के लिए तैयार हूं.”

नई दिल्‍ली। चुनाव सिर पर हैं और अरविंद केजरीवाल अपने अनशन के नए एपिसोड के साथ दिल्ली वालों के सामने हाजिर होने वाले हैं. मुद्दा होगा दिल्ली को पूर्ण राज्य का दर्जा दिलाने का.

शनिवार को दिल्ली के मुख्यमंत्री ने दिल्ली विधानसभा में ऐलान कर दिया कि- “1 मार्च से मैं अनशन पर जा रहा हूं. मैं तब तक अनशन पर रहूंगा, जब तक कि दिल्ली को पूर्ण राज्य का दर्जा नहीं मिल जाता. ऐसा करते हुए मैं मौत के लिए तैयार हूं.” खास बात ये है कि अरविंद केजरीवाल का ये फैसला ऐसे वक्त आया है, जब पिछले ही हफ्ते सुप्रीम कोर्ट ने एलजी को दिल्ली का बॉस बताया था.

केजरीवाल यहीं नहीं रुके. आगे कहा कि- “पूरे देश में लोकतंत्र है, लेकिन दिल्ली में नहीं. दिल्ली के लोग वोट करते हैं और अपनी एक सरकार चुनते हैं. लेकिन उस सरकार के पास कोई शक्ति नहीं है. इसी वजह से मैं आमरण अनशन पर जा रहा हूं.”

केजरीवाल पर वार करते हुए कपिल मिश्रा हद से आगे निकल गए और उनके लिए बदजुबानी कर दी. कपिल मिश्रा ने कहा कि- “मुख्‍यमंत्री जी अगर आप सीरियस हैं और सचमुच दिल्ली से प्यार करते हैं, तो आपके प्राण त्याग होने चाहिए. अब आपकी मृत्यु तक भूख हड़ताल जारी रहनी चाहिए या तो दिल्ली पूर्ण राज्य बने या आपकी मौत हो. तब आपको शहीद मानेंगे, तब मानेंगे कि आप गंभीर हो. क्योंकि मुझे पता है कि आप भागने वाले हो. क्योंकि ये चुनाव को देखते हुए आपकी राजनीति है.”

दरअसल, लोकसभा चुनाव से पहले दिल्ली के अंदर तीन मुख्य पार्टियों के बीच शह और मात का खेल चल रहा है. केजरीवाल ये बताने का कोई मौका नहीं छोड़ रहे कि वे बीजेपी को हराने के लिए कांग्रेस का साथ लेने क लिए तैयार हैं. लेकिन शीला दीक्षित उन्हें भाव ही नहीं दे रही हैं. ऐसे में सवाल केजरीवाल के अनशन की टाइमिंग पर है.