‘रोहित शेखर बेड पर बेसुध पड़े थे और नाक से खून बह रहा था’

पोस्टमोर्टम रिपोर्ट मिलते ही दिल्ली के डिफेंस कॉलोनी थाने में हत्या की धारा आईपीसी 302 के तहत केस दर्ज कर लिया गया है.

नई दिल्ली: उत्‍तर प्रदेश और उत्‍तराखंड के पूर्व सीएम एनडी तिवारी के बेटे रोहित शेखर तिवारी की मौत के बाद नया मामला सामने आया है. रोहित शेखर की पोस्टमॉर्टम रिपोर्ट आने के बाद पता चला है कि मौत की वजह हार्ट अटैक नहीं थी बल्कि एक सोची समझी साजिश के तहत हत्या की गई है.

दरअसल पोस्टमॉर्टम में रोहित के मौत की वजह गला दबाने और दम घुटने से बताई गई है. मामला हाई प्रोफाइल होने की वजह से केस क्राइम ब्रांच को सौंप दिया है. फिलहाल रोहित की माँ और पत्नी अस्थि विसर्जन के लिए हरिद्वार गए हुए है. कल उनके दिल्ली लौटने की संभावना है. क्राइम ब्रांच कल उनसे पूछताछ कर सकती है.

शुक्रवार सुबह क्राइम ब्रांच की टीम रोहित के बंगले पर गई थी जहां फॉरेंसिक टीम भी साथ थी. घर में मौजूद सभी लोगों से पूछताछ की गई. जिस कमरे से रोहित की लाश बरामद हुई थी वहां से भी सबूत जुटाए हैं. इस पूरे घटनाक्रम का रिकंस्ट्रक्शन भी किया गया है. पोस्टमोर्टम रिपोर्ट मिलते ही दिल्ली के डिफेंस कॉलोनी थाने में हत्या यानी आईपीसी 302 के तहत केस दर्ज कर लिया गया है.

rohit shekhar, ‘रोहित शेखर बेड पर बेसुध पड़े थे और नाक से खून बह रहा था’

पुलिस के मुताबिक 15 अप्रैल की रात रोहित शेखर नशे की हालत में घर पहुँचा थे. जिसके बाद वो सीधे अपने कमरे में जाकर सो गए थे. इस बीच कमरे में उनके साथ घर का नौकर भी था, जिसने रोहित की मालिश की थी.

अगले दिन शाम 4 बजे रोहित की पत्नी के कहने पर जब घर का नौकर रोहित को जगाने पहुँचा, तो रोहित बेड पर बेसुध पड़े थे और नाक से खून बह रहा था. इस बात की खबर तुरंत रोहित की माँ को दी गई जो उस वक्त हॉस्पिटल में थी. रोहित की माँ तुरंत एम्बुलेंस लेकर घर पहुंची.

घर से  रोहित को साकेत के मैक्स हॉस्पिटल ले जाया गया. कुछ देर बाद डॉक्टर्स ने रोहित को मृत घोषित कर दिया था. इस बात की भी जांच की जा रही है कि 15 अप्रैल की रात रोहित सोया और 16 अप्रैल की शाम 4 बजे के आसपास रोहित संदिग्ध हालत में मृत पाए गए फिर भी किसी ने कमरे में जाकर रोहित को नहीं उठाया.

ऐम्स में डॉक्टर्स के पैनल ने लाश का पोस्टमार्टम किया. जिसके बाद पता चला कि रोहित शेखर की मौत का समय 15 -16 अप्रैल की रात 1:30 बजे का है . जबकि रोहित को 16 अप्रैल की शाम करीब 5 बजे अस्पताल ले जाया गया. इसका मतलब वो करीब 15 घण्टे बंगले के कमरे में ही मृत पड़ा रहा.

ये भी पढ़ें- एनडी तिवारी के बेटे रोहित शेखर की संदिग्‍ध परिस्थितियों में मौत

ये भी पढ़ें- रोहित शेखर की मां ने कहा ‘मेरा बेटा जिनके कारण डिप्रेशन में था उनके नाम जरूर बताऊंगी’

ये भी पढ़ें- ‘बच्‍चा नहीं, पिता नाजायज होता है’, ये बात कहने वाले रोहित शेखर की कहानी

ये भी पढ़ें- पोस्टमॉर्टम रिपोर्ट के बाद और गहराई रोहित शेखर की मौत मिस्ट्री