हाफिज की ‘जमात’ पर बैन का पाकिस्तानी दांव फेल, आतंक की फंडिंग पर फंसा

पेरिस में हुई फाइनेंशियल एक्शन टास्क फोर्स (FATE) की बैठक में पाकिस्तान को करारा झटका लगा, उसे ग्रे लिस्ट में ही बरकरार रखा गया है. हाफिज सईद के जमात-उद-दावा पर पाबंदी का दांव पाकिस्तान के काम नहीं आया.

पेरिस: आतंक के आका पाकिस्तान को बड़ा झटका लगा है. FATE ने पाकिस्तान को ग्रे लिस्ट में बरकरार रखा है. ब्लैक लिस्ट से बचने के लिए पाकिस्तान के पास अक्टूबर तक का वक्त होगा.

पेरिस में पाकिस्तान हुआ चारों खाने चित! 

पेरिस में हुई फाइनेंशियल एक्शन टास्क फोर्स (FATE) की बैठक में पाकिस्तान को करारा झटका लगा, उसे ग्रे लिस्ट में ही बरकरार रखा गया है. हाफिज सईद के जमात-उद-दावा पर पाबंदी का दांव पाकिस्तान के काम नहीं आया. पाकिस्तान की कोशिश जमात-उद-दावा पर बैन लगा कर ग्रे लिस्ट से बाहर निकलने की थी. ग्रे लिस्ट का स्टेट्स हमेशा के लिए नहीं है, पाकिस्तान की रेटिंग का रिव्यू एक बार फिर जून और अक्टूबर में होगा.

FATF की पाकिस्तान को चेतावनी! 

FATF ने साफ कर दिया है कि आतंकवाद के खिलाफ एक्शन की टाइमलाइन चूकना पाकिस्तान के लिए भारी पड़ सकता है. हालांकि, भारत की तरफ से उसे ब्लैक लिस्ट में शामिल कराने की कोशिशें पूरी तरह कामयाब नहीं हो सकी हैं. FATF की तरफ से पाकिस्तान को सलाह भी दी गई है, जितना वक्त मिला है, उस दरमियान उसे टारगेट पूरा करना होगा.

FATF की अहमियत क्या है?

एफएटीएफ का गठन 1989 में विश्व के 37 देशों ने मिल कर किया था. इसका मकसद अंतरराष्ट्रीय  स्तर पर वित्तीय प्रबंधन को मनी लॉन्ड्रिंग और आतंकी फंडिंग जैसे ख़तरों से बचाना है. ये विश्व स्तर पर आतंकवादी संगठनों पर वित्तीय पाबंदी लगाने के लिए एक वॉचमैन की तरह काम करने वाला संगठन है.

FATF की रेटिंग का क्या असर होता है?

एफएटीएफ की तरफ से जारी की जाने वाली रेटिंग का असर वर्ल्ड बैंक, IMF समेत कई अन्य संस्थाओं पर पड़ता है. ये संस्थाएं रेटिंग के हिसाब से किसी देश को कर्ज देती हैं.

पाकिस्तान ने कुछ आतंकी संगठनों पर लगाया था बैन?

शुक्रवार को हुई इस बैठक से पहले ही पाकिस्तान कुछ आतंकी संगठनों पर पाबंदी लगाई थी. जिसमें मोस्ट वॉन्टेड आतंकी हाफिज सईद की जमात-उद-दावा और फलाह-ए-इंसानियत फाउंडेशन समेत कई संगठन शामिल हैं. पाकिस्तान की कोशिश इस कार्रवाई के आधार पर ग्रे लिस्ट से निकलने की थी. लेकिन ये संभव नहीं हो पाया.