शादीशुदा महिलाओं की वर्जिनिटी टेस्ट को लेकर महाराष्ट्र सरकार ने किया ये बड़ा ऐलान

maharashtra virginty test, शादीशुदा महिलाओं की वर्जिनिटी टेस्ट को लेकर महाराष्ट्र सरकार ने किया ये बड़ा ऐलान

नई दिल्ली: महाराष्ट्र सरकार ने महिलाओं को जल्द ही एक नई सहूलियत देने का ऐलान किया है. इस नए ऐलान के तहत अब किसी भी महिला को वर्जिनिटी टेस्ट करने के लिए मजबूर नहीं किया जाएगा और ऐसा करना अपराध की श्रेणी में शामिल होगा.

महाराष्ट्र में एक समुदाय है जहां महिलाओं को आज भी शादी के बाद अपनी वर्जिनिटी टेस्ट करानी पड़ती है और इसी प्रथा को समाप्त करने के लिए महाराष्ट्र सरकार ने ऐलान किया है कि अब किसी भी महिला की वर्जिनिटी टेस्ट कराना अपराध की श्रेणी में आएगा.

गृह राज्य मंत्री रंजीत पाटिल ने बुधवार को इस मुद्दे पर कुछ सामाजिक संगठनों के प्रतिनिधिमंडल से मुलाकात की. रंजीत पाटिल ने बाद में संवाददाताओं से कहा, ‘कानून और न्यायपालिका विभाग के साथ विचार-विमर्श के बाद वर्जिनिटी टेस्ट को यौन उत्पीड़न माना जाएगा और इसे एक दंडनीय अपराध घोषित किया जाएगा’.

रंजीत पाटिल ने यह भी कहा कि उनका विभाग यौन शोषण के मामलों की अब हर दूसरे महीने समीक्षा करेगा और यह सुनिश्चित करेगा कि अदालतों में ऐसे मामलों की संख्या कम से कम रहे.

यह प्रथा महाराष्ट्र के कंजरभट समुदाय में प्रचलित है जहां नई दुल्हन को वर्जिनिटी टेस्ट देना पड़ता था. कंजरभट समुदाय के ही कुछ युवाओं ने इसके खिलाफ एक ऑनलाइन अभियान शुरू किया है और इसको बंद करने की मांग की है.

Related Posts