संयुक्त अरब अमीरात ने जारी किया गोल्डन वीज़ा, जानिए भारतीयों को कैसे मिलेगा बड़ा फायदा

संयुक्त अरब अमीरात ने गोल्डन वीज़ा जारी कर दिया है. इस गोल्डन वीज़ा का बड़ा फायदा भारतीयों को मिलेगा.. लेकिन कैसे.. जानिए.

संयुक्त अरब अमीरात का गोल्डन वीज़ा खूब चर्चा में है. खबर आई है कि कई भारतीयों को गोल्डन वीज़ा से ही नवाज़ा जाएगा. ऐसे में लोग जानना चाहते हैं कि आखिर ये गोल्डन वीज़ा क्या है, किसे मिलता है और इसके होने के फायदे क्या हैं?

किस काम का होता है वीज़ा?
दरअसल किसी भी दूसरे देश में जाने के लिए दो चीज़ों की ज़रूरत होती है. पहला पासपोर्ट और दूसरा वीज़ा. वीज़ा वो अनुमति पत्र है जो उस देश से जारी होता है जहां आप जाने के लिए निवेदन करते हैं. ये भी एक तरह का नहीं होता. इसके कई प्रकार हैं, मसलन बिज़नेस वीज़ा, टूरिस्ट वीज़ा, स्टूडेंट वीज़ा. जिस तरह का काम आप संबंधित देश में करना चाहते हैं उसी तरह का वीज़ा जारी किया जाता है और उतनी ही अवधि के लिए. गोल्डन वीज़ा भी वीज़ा का एक प्रकार ही है. गोल्डन वीजा वितरण के पहले दौर में 70 से अधिक देशों के 6800 लोगों को ये वीजा दिया जाएगा.

, संयुक्त अरब अमीरात ने जारी किया गोल्डन वीज़ा, जानिए भारतीयों को कैसे मिलेगा बड़ा फायदा

संयुक्त अरब अमीरात ने गोल्डन वीज़ा की शुरूआत कर दी है. इसका एलान देश के उपराष्ट्रपति और दुबई के शासक शेख मोहम्मद बिन राशिद अल मकतूम ने 21 मई को किया था. उन्होंने ट्वीट किया था-

हमने निवेशकों, बेहतरीन चिकित्सकों, इंजीनियरों, वैज्ञानिकों और कलाकारों को स्थायी नागरिकता देने के लिए एक नए गोल्डन कार्डव्यवस्था शुरू की है।

गोल्डन वीज़ा होता क्या है?

गोल्डन वीज़ा की अवधि दस साल की होगी. ये निवेश करने वालों, बड़ी अंतरराष्ट्रीय कंपनियों के मालिकों, शोधकर्ताओं और प्रतिभाशाली विद्यार्थियों को दिया जाएगा ताकि वो देश के विकास में अधिक आराम से भागीदार बन सकें.जिनके पास गोल्डन वीज़ा होगा उन्हें आम वीजाधारकों की तुलना में अधिक सुविधाएं मिलेंगी. जैसे बिना किसी अन्य व्यक्ति या कंपनी की सहायता के अपने पति या पत्नी और बच्चों के साथ ऐसे लोग यूएई में रह सकेंगे. अभी तक इसके लिए स्पॉन्सर की आवश्यकता पड़ती थी. गोल्डन वीज़ाधारक तीन कर्मचारियों को स्पॉन्सर भी कर सकता है. ऐसा शख्स अपनी कंपनी के किसी वरिष्ठ कर्मचारी को रेसीडेंसी वीजा भी दिलवा सकता है.

, संयुक्त अरब अमीरात ने जारी किया गोल्डन वीज़ा, जानिए भारतीयों को कैसे मिलेगा बड़ा फायदा

भारतीयों के लिए गोल्डन वीज़ा क्यों खास?
संयुक्त अरब अमीरात में सबसे बड़ी प्रवासी आबादी भारतीयों की है. 90 लाख की आबादी के यूएई में 30% आबादी भारतीयों की हैं जो वहां व्यापार, नौकरी, पढ़ाई कर रहे हैं. ख़बरों के मुताबिक यूएई में बसे कई भारतीय अब तक गोल्डन वीज़ा हासिल कर चुके हैं.

बताया जा रहा है कि शारजाह में भारतीय कारोबारी लालू सैमुएल को ये वीज़ा मिल चुका है. वो मध्य पूर्व की सबसे बड़ी मैन्युफैक्चरिंग कंपनियों में से एक किंग्सटन होल्डिंग्स के मालिक हैं. गहने बनानेवाली कंपनी मालाबार ग्रुप के को-चेयरमैन पीए इब्राहीम हाजी को भी गोल्डन वीजा दिया गया है.