India vs New Zealand: रोहित, कोहली, राहुल ने टीम इंडिया के नाम जोड़ा शर्मनाक रिकॉर्ड

वर्ल्ड कप 1996 में खेले गए एक सेमीफाइनल मैच में ऑस्ट्रेलिया ने खराब शुरुआत की थी जिसका रिकॉर्ड तोड़कर भारतीय टीम ने अपने नाम कर लिया है.

नई दिल्ली: न्यूजीलैंड ने ओल्ड ट्रैफर्ड मैदान पर खेले गए सेमीफाइनल मैच में भारत को 18 रनों से मात दे आईसीसी विश्व कप-2019 के फाइनल में कदम रख लिया है. मंगलवार को बारिश के कारण पूरा न हो सका यह मैच बुधवार को पूरा हुआ. इस मैच में भारतीय टीम के बल्लेबाजों का प्रदर्शन जिस तरह रहा वह 1975, 1996 और 2007 के वर्ल्ड कप मैच की याद दिलाता है.

कीवी टीम ने भारत के सामने 240 रनों का लक्ष्य रखा था जिसे भारतीय टीम संघर्ष के बाद भी हासिल नहीं कर पाई और 49.3 ओवरों में सभी विकेट खोकर 221 रन ही बना सकी.

1-1-1 रन बनाकर तीन बल्लेबाज आउट

भारतीय पारी की ओपनिंग रोहित शर्मा और लोकेश राहुल ने की. वर्ल्ड कप में अभी तक के प्रदर्शन से भारतीय फैंस को उम्मीद थी कि दोनों बल्लेबाज टीम की बेहतरीन शुरूआत करेंगे लेकिन ऐसा नहीं हुआ. भारत ने पहले ही ओवर में महत्वपूर्ण विकेट गंवा दिए. न्यूजीलैंड के घातक गेंदबाज मैट हेनरी ने रोहित शर्मा को आउट कर दिया.

रोहित शर्मा के बल्ले से गेंद टच होती हुई विकेट कीपर के हाथ में चली गई. वर्ल्ड कप में रिकॉर्ड 5 शतक बनाने वाले रोहित इस मैच में केवल 1 रन बनाकर पवेलियन लौट गए. इस पहले बड़े झटके के बाद टीम इंडिया संभलने में जुटी ही थी कि फिर अगले ओवर में ट्रेंट बोल्ट ने कप्तान विराट कोहली को LBW आउट कर दिया. वह भी महज 1 रन ही बना पाए.

महज 5 रन पर 3 विकेट

सेमीफाइनल जैसे महत्वपूर्ण मुकाबले में महज 5 रन पर 2 विकेट खोने के बाद टीम इंडिया को लोकेश राहुल से पारी संभालने की उम्मीदें थी, लेकिन वह भी विकेट के पीछे कैच आउट हो गए. लोकेश भी महज 1 रन बनाकर पवेलियन चलते बने. इस तरह भारतीय टीम के 5 रन पर 3 विकेट हो गए.

रोहित 4 गेंदों में 1, कप्तान विराट कोहली 6 गेंदों में 1 और लोकेश राहुल 7 गेंदों में 1 रन बनाकर पवेलियन लौट गए. महज 19 गेंदों में भारत ने 3 बड़े विकेट गंवा दिए. भारत सेमीफाइनल से पहले महज 1 मैच गंवाकर अंकतालिका में शीर्ष पर रही थी, लेकिन निर्णायक मुकाबले में शीर्ष क्रम के फ्लॉप शो ने हर किसी को निराश कर दिया.

जब ऑस्ट्रेलिया के 8 रन पर गिरे थे 3 विकेट

वर्ल्ड कप के सेमीफाइनल या नॉकआउट मुकाबले में अब तक का यह सबसे खराब प्रदर्शन है. इससे पहले 1996 के वर्ल्ड कप मोहाली में खेले गए एक सेमीफाइनल मैच में वेस्टइंडीज के खिलाफ ऑस्ट्रेलिया की शुरुआत बेहद खराब हुई थी. पहले बल्लेबाजी करते हुए कंगारू टीम ने महज 8 रन पर 3 विकेट खो दिए थे. बाद में टीम ने 50 ओवर में 8 विकेट पर 207 रन बनाए और यह मुकाबला 5 रन के अंतर से जीत लिया.

हालांकि नॉकआउट मुकाबले में शुरुआती 3 बड़े झटके खाने के बाद सिर्फ ऑस्ट्रेलिया की टीम ही मैच जीतने में कामयाब रही है. इसके अलावा 2011 के वर्ल्ड कप के क्वार्टर फाइनल में पाकिस्तान के खिलाफ वेस्टइंडीज ने 16 रन पर 3 विकेट खो दिए, बाद में टीम को हार भी मिली.

इंग्लैंड और दक्षिण अफ्रीका के साथ भी यही हुआ

1975 और 2007 के सेमीफाइनल मुकाबले में भी क्रमशः इंग्लैंड और दक्षिण अफ्रीका के साथ भी यही हुआ और दोनों ही टीमों ने ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ महज 26 रन पर 3 विकेट गंवा दिए. दोनों ही टीमें इस शुरुआती झटके से उबर नहीं सकी और उन्हें हार का सामना करना पड़ा.