आयुष्‍मान भारत योजना के पैकेजेस में बदलाव, मुफ्त इलाज के दायरे में आईं ये घातक बीमारियां

आयुष्‍मान भारत यानी प्रधानमंत्री जन आरोग्‍य योजना के 270 पैकेजेस के दाम बढ़ाए गए हैं. पैकेज की कीमतों में 10 से 60 फीसदी तक का इजाफा देखने को मिला है. 469 पैकेजेस के रेट में कोई बदलाव नहीं है.

आयुष्‍मान भारत प्रधानमंत्री जन आरोग्‍य योजना (AB-PMJAY) के पैकेजेस में बदलाव किया गया है. इसकी नोडल एजेंसी, नेशनल हेल्‍थ अथॉरिटी (NHA) ने कहा कि 237 नए पैकेज जोड़े गए हैं. इसके अलावा, आयुष्‍मान भारत योजना के 270 पैकेजेस के दाम बढ़ाए गए हैं. पैकेज की कीमतों में 10 से 60 फीसदी तक का इजाफा देखने को मिला है. 469 पैकेजेस के रेट में कोई बदलाव नहीं है.

आयुष्‍मान भारत योजना में इस बदलाव से धोखेबाजी पर लगाम लगने की उम्‍मीद है. साथ ही निजी अस्‍पताल भी इस योजना का हिस्‍सा बनने को मोटिवेट होंगे. केंद्रीय स्‍वास्‍थ्‍य एवं परिवार कल्‍याण मंत्री डॉ. हर्षवर्द्धन ने कहा, “हमें विश्‍वास है कि आयुष्‍मान भारत PMJAY के हेल्‍थ बेनेफिट पैकेजेस में बदलाव से कई नए प्राइवेट हॉस्पिटल्‍स इस योजना का हिस्‍सा बनेंगे. इससे लाखों परिवारों का मुफ्त इलाज हो सकेगा.

कैसे हैं आयुष्‍मान भारत योजना के पैकेज?

आयुष्‍मान भारत योजना कुल 1,393 ट्रीटमेंट पैकेज ऑफर करती है. इनमें से 1,083 सर्जिकल, 309 मेडिकल और एक अनस्‍पेसिफाइल पैकेज है. इन पैकेजेस में हॉस्पिटलाइजेशन से 3 दिन पहले तक का डायग्‍नोस्टिक्‍स शामिल हैं. हॉस्पिलट में भर्ती होने के बाद, 15 दिन तक दवाइयां इस योजना के तहत मुफ्त मिलती हैं.

आयुष्‍मान भारत योजना में क्‍या है नया?

अभी तक आयुष्‍मान भारत योजना के तहत कुछ ही तरह के कैंसर का इलाज मुफ्त होता था. अब इसमें गर्भाशय, स्‍तन, आंत, पेट आदि के कैंसर भी कवर होंगे. ऑन्‍कोलॉजी पैकेट्स को तोड़ कर उन्‍हें सर्जिकल और मेडिकल ऑन्‍कोलॉजी के कई हिस्‍सों में बांट दिया गया है.

क्‍या है आयुष्‍मान भारत योजना?

इस योजना के जरिए अस्‍पताल में मुफ्त इलाज देने का लक्ष्‍य है. भर्ती होते ही अस्‍पताल खर्च के बारे में बीमा कंपनी को इंफॉर्म करेगा. डॉक्‍युमेंट्स वेरिफाई होते ही मुफ्त में इलाज शुरू हो जाता है. यह योजना सरकारी और निजी अस्‍पतालों पर लागू है.

आधार नंबर के हिसाब से आयुष्‍मान भारत योजना का डेटा तैयार किया गया है. साल 2011 की जनगणना में जो लोग गरीबी रेखा से नीचे थे, उन्‍हें इस योजना में जगह मिलेगी. आपका नाम लाभार्थियों की सूची में है या नहीं, इसे www.pmjay.gov.in पर चेक किया जा सकता है. आप नजदीकी सरकारी अस्‍पताल में जाकर भी इस योजना की जानकारी ले सकते हैं.

साल भर में 10 करोड़ ई-कार्ड जारी

हाल ही में इस योजना ने एक साल पूरा किया है. इस मौके पर हर्षवर्धन ने कहा था कि आयुष्मान भारत के तहत पहले साल में 10 करोड़ ई-कार्ड जारी किए गए हैं. उन्होंने कहा कि सरकार की 7,500 करोड़ रुपये की निधि योजना के तहत 45 लाख मरीजों को अस्पताल में भर्ती होने का लाभ मिला है.

उन्‍होंने दावा किया था कि PMJAY के तहत 55 करोड़ संभावित लाभार्थी हैं. 21,000 से ज्यादा स्वास्थ्य व कल्याण केंद्र स्थापित किए गए हैं, जो वर्तमान वित्तीय वर्ष के अंत तक 40,000 से ज्यादा हो जाएंगे. जागरूकता कार्यक्रम के तहत प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा हस्ताक्षरित 7.7 करोड़ पत्र लाभार्थियों को बांटे गए हैं.

ये भी पढ़ें

…जब पीएम मोदी बोले- आयुष्मान भारत कार्ड दिखाने पर कोलकाता से कराची तक मुफ्त इलाज मिलेगा!