अगर आप भी टाइट जींस पहनकर चलाते हैं ऑटोमेटिक कार, तो अब हो जाइए सावधान…

कार चला रहे युवक को पल्मोनरी इम्बोलिज्म की वजह से कार्डियक अरेस्ट आया. डॉक्टर इसकी वजह लंबे समय तक टाइट जींस पहनकर कार चलाना बता रहे हैं.

टाइट जींस में लगातार घंटों कार चलकर लंबी दूरी तय करना महंगा पड़ सकता है. दिल्ली के रहने वाले 30 वर्षीय युवक सौरभ शर्मा ने टाइट जींस पहनकर आठ घंटे तक कार चलाई जिसकी वजह से खून का संचार रुकने से ब्लड क्लॉट (थक्का) बन गया.

सौरभ ऑटोमेटिक कार चला रहे थे इसलिए उनके बाएं पैर का मूवमेंट नहीं हो रहा था. घंटो पैर मुड़ा रहा और टाइट जींस की वजह से पैर में खून सहीं तरीके से नहीं पहुंच पा रहा था.

बाएं पैर में दर्द होने पर भी सौरभ ने उसे नजर अंदाज कर दिया. दो दिन बाद जब वह सीढ़ी चढ़कर ऑफिस पहुंचे तो बेहोश हो गए. सौरभ के परिजन तुरंत मैक्स हॉस्पिटल लेकर पहुंचे. जांच में पता चला कि पल्मोनरी इम्बोलिज्म की वजह से सौरभ को कार्डियक अरेस्ट आया है.

अस्पताल के डॉक्टर इसका कारण लंबे समय तक टाइट जींस पहनकर कार चलाना बता रहे हैं. अस्पताल के हृदय रोग विशेषज्ञ डॉ. नवीन भामरी ने कहा कि सौरभ पल्मोनरी एम्बोलिज्म के शिकार हुए. इलाज के बाद पता चला कि इसका कारण आठ घंटे तक कार चलाना था. उन्होंने कहा कि पल्मोनरी एम्बोलिज्म एक जानलेवा बीमारी है. इसके 50 फीसद मामलों में हार्ट अटैक होता है.

अस्पताल के नेफ्रोलॉजी विभाग के विशेषज्ञ डॉ. योगेश कुमार छाबड़ा ने कहा कि जब उन्हें यहां लाया गया था, उस समय उनका बीपी रिकॉर्ड नहीं हो रहा था. सांस बहुत कम चल रही थी. शरीर में ऑक्सीजन की कमी से शरीर नीला पड़ गया था. सीपीआर देकर उनकी जान बचाई गई. 24 घंटे में उनका ब्लड प्रेशर स्थिर हुआ. फिर भी किडनी ठीक से काम नहीं कर रही थी. इस वजह से 24 घंटे तक डायलिसिस पर रखा गया.

अस्पताल के डॉ. देवेंद्र अग्रवाल ने कहा कि बैठने पर पैर हिलाते रहना चाहिए. इससे रक्तसंचार बना रहता है. पैर में रक्त थक्का होने पर इसका असर दिल तक पड़ता है, इसलिए पैर के दर्द को नजरअंदाज नहीं करना चाहिए. लंबे समय तक एक ही स्थिति में बैठने से परहेज करना चाहिए.

ये भी पढ़ें-

सरयू राय की दोस्ती या बीजेपी का साथ? झारखंड चुनाव के नतीजे तय करेंगे बिहार में सीएम नीतीश की दिशा

कौन है ये दिल्ली का पावर एलीट ग्रुप जो दिसंबर में करेगा अयोध्या दौरा?