सरकार ने गाड़ियों के लिए FASTag किया जरूरी, जानें कितना आएगा खर्चा…

आजकल फास्टैग शब्द सबकी ज़ुबां पर चढ़ा हुआ है. हर कोई इसके बारे में बात कर रहा है. इसकी वजह से टोल प्लाजा पर आपका कम समय बर्बाद होगा.

सरकार ने 15 दिसंबर 2019 से फास्टैग का इस्तेमाल अनिवार्य कर दिया है. जिसके बाद आपको अपने वाहन पर फास्टैग का इस्तेमाल करना होगा और अगर नहीं किया तो नेशनल टोल प्लाजा पर दोगुना टोल टैक्स देने के लिए तैयार रहिए. जी हां… दोगुना… तो फास्टैग किस चिड़िया का नाम है. ये कैसे काम करता है और इसको लगवाने के लिए आपको क्या करना पड़ेगा? ये पूरी बात हम आपको बताते हैं.

क्या है फास्टैग?

फास्टैग ये रेडियो फ्रीक्वेंसी आइडेंटिफिकेशन यानि RFID चिप लगा एक कार्ड है जो गाड़ी की विंड स्क्रीन यानि आगे वाले शीशे पर लगाया जाता है. फास्टैग लगा होने पर आपको टोल वाहन रोकने की जरूरत नहीं होती. इस चिप के ज़रिये ऑटोमैटिक टोल पेमेंट हो जाएगी और उसका मैसेज आपके मोबाइल फोन पर आ जाएगा.

कहां मिलेगा फास्टैग?

सरकार ने फास्टैग के लिए 28 हजार से ज्यादा प्वाइंट ऑफ सेल यानि POS बनाए हैं जिनमें चुनिंदा बैंक, नेशनल हाईवे टोल प्लाज़ा, रीज़नल ट्रांसपोर्ट ऑफिस, कॉमन सर्विस सेंटर, ट्रांसपोर्ट हब और पेट्रोल पंप शामिल हैं. इसके अलावा अमेजन और पेटीएम जैसे कुछ ई-कॉमर्स प्लेटफॉर्म से भी फास्टैग खरीदे जा सकते हैं. अपने नजदीकी प्वाइंट ऑफ सेल की लोकेशन जानने के लिए इंडियन हाइवे मैनेजमेंट कंपनी लिमिटेड की वेबसाइट https://ihmcl.com/postloc.php पर विज़िट करें. इसके अलावा MY FASTag मोबाइल एप पर भी आप अपने नज़दीकी POS के बारे में जान सकते हैं.

खर्च कितना आएगा?

यहां आपके लिए अच्छी खबर है. 1 दिसंबर तक सरकार फास्टैग फ्री में दे रही है. पहले इसकी कीमत 100 रुपए थी लेकिन मिनिमम बैलेंस और सिक्योरिटी डिपॉजिट का भुगतान करना होगा. अलग-अलग POS पर ये अलग-अलग वसूला जा रहा है लेकिन मोटा-मोटी 500 रुपए तक का भुगतान करना होगा.

काम कैसे करेगा?

सबसे पहले अपने फोन पर MY FASTag मोबाइल एप डाउनलोड करें. एप में मांगी गई गाड़ी की डीटेल भरें और ऐक्टिवेट करें. उसके लिए गाड़ी की RC और फोटो आई कार्ड की ज़रूरत पड़ेगी. इस एप को अपने बैंक खाते से लिंक कर सकते हैं जिसके बाद टोल प्लाज़ा से गुज़रने पर टोल टैक्स सीधे आपके खाते से कट जाएगा. इस एप पर NHAI प्रीपेड वॉलेट की सुविधा भी उपलब्ध है जिसको UPI, डेबिट कार्ड, क्रेडिट कार्ड, नेट बैंकिंग के जरिये रिचार्ज कर सकते हैं.

फायदा क्या होगा?

फास्टैग से पैसे कम लगेंगे. 2.5% कैशबैक मिलेगा. कैशलेस ट्रांजेक्शन को बढ़ावा मिलेगा. टोल प्लाज़ा पर भीड़ कम होगी और गाड़ियों की लंबी कतारें नहीं लगेंगी. गाड़ी में बैठे-बैठे आपको झुंझलाहट कम होगी और आजकल जो हम सबके जी का जंजाल बना हुआ है… प्रदूषण… गाड़ियों के कम रुकने से प्रदूषण भी कम होगा. इसके अलावा एक और फायदा है, अगर ज़रूरत पड़ी तो किसी भी गाड़ी को आसानी से ट्रैक किया जा सकेगा.

एक फायदे की बात और…

अगर आप टोल प्लाजा के 10 किलोमीटर के दायरे में रहते हैं तो आपको फास्टैग पर भी टोल टैक्स की छूट मिलेगी. इसके लिए नजदीकी POS में आपको अपना रेजिडेंस प्रूफ जमा कराना होगा और पता वेरिफाइ होते ही आप उस टोल प्लाज़ा से फ्री आ-जा सकेंगे.

अंत में जो सबसे काम की बात है वो एक बार फिर से जान लीजिए…

  • पहली बात– 15 दिसंबर से देश के सारे नेशनल टोल प्लाजा पर फास्टैग अनिवार्य है.
  • दूसरी बात– बिना फास्टैग के आप अगर इस टोल प्लाजा से गुज़रे तो दो गुना टोल टैक्स देना होगा.
  • तीसरी बात- फिलहाल सरकार इसको फ्री में बांट रही है, हो सकता है कि 1 दिसंबर के बाद इसकी कीमत चुकानी पड़े.

तो देर किस बात की… फास्ट होईये और फास्टैग लगवाईये.