भारत सरकार की चेतावनी- इस तरह के एप का ना करें इस्तेमाल, चुरा सकते हैं निजी जानकारी

साइबर दोस्त ट्विटर हैंडल को केंद्रीय गृह मंत्रालय संचालित किया जाता है और ये समय-समय पर किसी भी संभावित साइबर खतरों पर सलाह जारी करता रहता है.

केंद्र सरकार ने अपने साइबर जागरूकता ट्विटर हैंडल पर एक एडवायजरी जारी की है. एडवायजरी में यूजर्स को अज्ञात URL से ऑक्सीमीटर (Oximeter) एप्लिकेशन डाउनलोड करने के खिलाफ चेतावनी दी गई है. इसमें कहा गया है कि जब ये एप यूजर्स के शरीर में ऑक्सीजन के स्तर की जांच करने का दावा करते हैं, तो वे नकली हो सकते हैं और व्यक्तिगत डेटा जैसे कि इमेज, कॉन्टेक्ट्स और अन्य जानकारी फोन से चोरी कर सकते हैं.

एडवायजरी के मुताबिक ऐसे एप यूजर्स से उनके बायोमेट्रिक उंगलियों के निशान मांगकर बायोमेट्रिक जानकारी भी चुरा सकते हैं. ऑक्सीमीटर एप्स यूजर के खून में ऑक्सीजन की मात्रा को चेक करते हैं और दिल की धड़कनों को ट्रैक करते हैं. खासतौर से ये एप यूजर्स की ऑक्सीजन के प्रतिशत की निगरानी में मदद करते हैं.

ऑक्सीजन के स्तर पर लगातार नजर बनाए रखने की सलाह ज्यादातर स्वास्थ्य अधिकारियों देते रहे हैं, खासकर कोरोनोवायरस महामारी के मद्देनजर. साइबर दोस्त ट्विटर हैंडल को केंद्रीय गृह मंत्रालय संचालित किया जाता है और ये समय-समय पर किसी भी संभावित साइबर खतरों पर सलाह जारी करता रहता है.

ई-वॉलेट एप पर भी दी थी सलाह

इस महीने की शुरुआत में इस हैंडल ने यूजर्स को चेतावनी दी थी और उनसे कहा था कि वे सत्यापन और प्रमाणीकरण के बाद ही अपने स्मार्टफोन में ई-वॉलेट एप डाउनलोड करें. जिसका मतलब है कि उन्हें सीधे एपल के ऐप स्टोर और Google Play Store से इंस्टॉल करना है. SMS, ई-मेल या सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म के माध्यम से प्राप्त किसी भी ई-वॉलेट लिंक पर धोखाधड़ी की जा सकती है और उस पर भरोसा नहीं किया जाना चाहिए.

Related Posts