जल्द ही किसी भी बैंक के ATM में कैश जमा कर सकेंगे आप, जानिए- क्या है NPCI का नया प्लान?

NPCI का कहना है कि कैश डिपॉजिट की सुविधा के बाद ग्राहक इन्हें कैश निकासी के लिए इस्तेमाल कर सकते हैं. इस तरह ऑपरेटर्स के पास बार-बार ATM में कैश भरने की चिंता नहीं रहेगी.
ATM cash deposit, जल्द ही किसी भी बैंक के ATM में कैश जमा कर सकेंगे आप, जानिए- क्या है NPCI का नया प्लान?

जल्द ही किसी एक बैंक के ग्राहक दूसरे बैंक की शाखा या फिर ATM में कैश जमा कर सकेंगे. पेमेंट कॉर्पोरेशन ऑफ इंडिया (NPCI) ने इसके लिए अपनी तरफ से तैयारी शुरू कर दी है. NPCI ने इसके लिए देश के सभी बड़े बैंकों को इस बारे में प्रस्ताव भेज दिया है.

NPCI का मानना है कि इस व्यवस्था के लागू होने के बाद कैश परिचालन (ऑपरेटिंग) की लागत में कमी आएगी, जिसका फायदा बैंकिंग सिस्टम को होगा. इससे ATM ऑपरेटर्स को ATM में कैश मैनेज करने और बार-बार कैश भरने के खर्च से राहत मिल सकती है.

NPCI का कहना है कि कैश डिपॉजिट की सुविधा के बाद ग्राहक इन्हें कैश निकासी के लिए इस्तेमाल कर सकते हैं. इस तरह ऑपरेटर्स के पास बार-बार ATM में कैश भरने की चिंता नहीं रहेगी. यानी जो पैसा ATM मशीन में जमा होगा, उसका इस्तेमाल निकासी के लिए भी किया जा सकेगा.

ATM cash deposit, जल्द ही किसी भी बैंक के ATM में कैश जमा कर सकेंगे आप, जानिए- क्या है NPCI का नया प्लान?

14 प्रमुख बैंकों के तीस हजार से अधिक ATM को पहले चरण में अपग्रेड किया जा सकता है. इसके लिए ATM के हार्डवेयर को भी बदलना नहीं पड़ेगा.  NPCI ने सभी प्रमुख निजी और सरकारी बैंकों से ऐसा करने के लिए कहा है.

हालांकि बैंकों को इस सुविधा से जुड़ने से कई बातों का ध्यान रखना पड़ेगा, जैसे कि नकली नोट की पहचान करना और उनको मशीन से बाहर करने की प्रक्रिया. मौजूदा समय में 14 बैंक इंटरऑपरेबल कैश डिपॉजिट नेटवर्क का संचालन करती हैं.

NPCI ने अनुमान लगाया है कि सभी प्रमुख बैंकों के करीब 30 हजार ATM को तत्काल रूप से इंटरऑपरेबल डिपॉजिट मशीन के तौर अपग्रेड किया जा सकता है. फिलहाल, यूनियन बैंक, केनरा बैंक, आंध्रा बैंक और साउथ इंडियन बैंक ये सुविधा प्रदान करते हैं.

पंजाब एंड महाराष्ट्र कोऑपरेटिव बैंक भी यह सुविधा प्रदान करता था, लेकिन पिछले साल वित्तीय अनियमित्तता की वजह से रिवर्ज बैंक ने पीएमसी बैंक पर कई तरह का प्रतिबंध ​लगा दिया था.

ये भी पढ़ें-

Oyo तेजी से कर रहा स्‍टाफ में कटौती, अगले तीन महीनों में जाएंगी 1,200 नौकरियां

समय से पहले भारत ने किया 2.32 करोड़ डॉलर का भुगतान, संयुक्त राष्ट्र ने जताया आभार

Related Posts