यूपी में बेरोजगार हुए 25 हजार होमगार्ड, पुलिस विभाग ने सेवाएं लेने से किया इनकार

रिपोर्ट के मुताबिक, पुलिस के बराबर वेतन किए जाने के बाद बजट का भार बढ़ गया. इसे बैलेंस करने के लिए होमगार्डों की छंटनी हुई है.
uttar pradesh home guard, 25 हजार होमगार्ड हुए बेरोजगार

उत्तर प्रदेश सरकार ने 25 हजार होमगार्ड की ड्यूटी खत्म कर दी है. योगी सरकार ने बजट का हवाला देकर ये फैसला लिया है. रिपोर्ट के मुताबिक, पुलिस के बराबर वेतन किए जाने के बाद बजट का भार बढ़ गया. इसे बैलेंस करने के लिए होमगार्डों की छंटनी हुई है.

इस संबंध में एडीजी पुलिस मुख्यालय, प्रयागराज बीपी जोगदंड ने आदेश जारी कर दिया है. आदेश में कहा गया है कि कानून व्यवस्था की दृष्टिगत पुलिस विभाग में रिक्ति के सापेक्ष 25000 होमगार्ड की ड्यूटी लगाई गई थी.

मुख्य सचिव की अध्यक्षता में 28 अगस्त को हुई बैठक में इस ड्यूटी को समाप्त करने का निर्णय लिया गया था. इसी क्रम में शुक्रवार को पुलिस मुख्यालय प्रयागराज की ओर से आदेश जारी कर होमगार्ड की तैनाती तत्काल प्रभाव से समाप्त कर दी गई है.

साथ ही पूर्व में पुलिस महकमे में थानों पर ड्यूटी कर रहे होमगार्ड की संख्या में भी 32 प्रतिशत की कटौती कर दी गई है. यानी लगभग 40 हजार होमागर्ड की ड्यूटी अब तक समाप्त की जा चुकी है. ऐसे में होमगार्ड को जो 25 दिनों तक की ड्यूटी मिल रही थी वह अब लगभग 15 दिनों तक की ही ड्यूटी मिलेगी.

गौरतलब है कि एक साल पहले गृहविभाग ने पुलिस के रिक्त पदों के स्थान पर 25 हजार होमगार्ड की तैनाती की थी. अब उनकी सेवाएं समाप्त करने का आदेश जारी किया गया है. यह निर्णय सुप्रीम कोर्ट के आदेश से गड़बड़ाए बजट को संतुलित करने के लिए लिया गया है.

वर्तमान में प्रदेश में एक लाख 18 हजार होमगार्ड के पद हैं. इनमें से 19 हजार पद रिक्त हैं. पिछले महीने तक 92 हजार होमगार्ड की ड्यूटी लगाई जा रही थी, जबकि उपलब्ध होमगार्ड की संख्या 99 हजार थी.

Related Posts