चालान पर ट्रैफिक पुलिस से नोंक-झोंक के बाद इंजीनियर को आया हार्ट अटैक, चली गई जान

गौरव को ज़मीन पर गिरते देख पुलिसवाले वहां से रफू-चक्कर हो गए.

नई दिल्ली: ट्रैफिक चालान दस गुना बढ़ाने का फ़ायदा आने में अभी देरी है लेकिन इसके कई दुष्परिणाम अभी से दिखने लगे हैं. रविवार को नोएडा में वाहन चेकिंग के दौरान पुलिस से नोकझोंक में एक युवक को हार्ट अटैक आ गया. युवक को आनन-फानन में अस्पताल ले जाया गया जहां डॉक्टरों ने उसे मृत घोषित कर दिया. परिवार के मुताबिक मृत युवक पेशे से सॉफ्टवेयर इंजीनियर था.

दरअसल मूलचंद शर्मा रविवार शाम बेटे गौरव के साथ अपने भांजे से मिलने कार में बैठकर इंदिरापुरम जा रहे थे. नोएडा सेक्‍टर 62 में चेकिंग के दौरान एक ट्रैफिक पुलिस ने उन्हें रुकने का इशारा करते हुए गाड़ी के बोनट पर डंडे मारने शुरू कर दिए. गौरव कार चला रहा था, जबकि वे उसके साथ अगली सीट पर बैठे थे. वहीं उनकी पत्नी पीछे वाली सीट पर थी. उन्होंने गौरव से कहकर गाड़ी साइड लगवाई और ट्रैफिककर्मी के व्यवहार पर नाराजगी जताई.

थोड़ी देर तोक दोनों के बीच कहा-सुनी होती रही. इस दौरान ट्रैफिक पुलिस वाला गाड़ी की फोटो खींचकर उनपर दबाव बनाता रहा. तभी गौरव को चक्कर आया और बेहोश हो गया. गौरव को ज़मीन पर गिरते देख पुलिसवाले वहां से रफू-चक्कर हो गए.

हालांकि एक राहगीर ने उनकी मदद की. वे लोग गौरव को फोर्टिस अस्पताल ले गए. वहां पर डॉक्टरों ने गौरव को भर्ती करने से इनकार कर दिया और कहीं और ले जाने को कहा. बाद में वे लोग गौरव को लेकर कैलाश अस्पताल पहुंचे, जहां पर 10- 20 मिनट चेक अप के बाद उसे मृत घोषित कर दिया गया.