विकास दुबे के सिर 50 हजार का इनाम, गैंगस्टर की मां बोलीं- ऐसे बेटे को तो गोली मार देनी चाहिए

पुलिस ने मौके से विकास के छोटे भाई दीप प्रकाश की पत्नी अंजली और भांजी प्रियंका को पूछताछ के लिए हिरासत में ले लिया. वहीं उसकी मां सरला चलने फिरने में असमर्थ थीं, तो उन्हें घर पर ही पुलिस की निगरानी में रखा गया है.

कानपुर में जिस कुख्यात अपराधी विकास दुबे को गिरफ्तार करने की कोशिश में 8 पुलिसकर्मी शहीद हो गए उसके सिर प्रशासन ने 50 हजार का इनाम घोषित किया है. कानपुर रेंज के पुलिस महा निरिक्षण मोहित अग्रवाल ने इनाम का ऐलान किया है. उन्होंने बताया कि सूचना देने वाले को 50 हजार रुपए का इनाम मिलेगा और कोई भी 9454400211 पर सूचना दे सकता है. सूचना देने वाले का नाम पूरी तरह से गुप्त रखा जाएगा.

वहीं कानपुर के विकरु गांव में शहीद हुए पुलिस कर्मियों के मामले में चौबेपुर थाना अध्यक्ष विनय तिवारी की भूमिका भी एसटीएफ को संदिग्ध लग रही है. एसटीएफ थाना अध्यक्ष से पूछताछ कर रही है. बताया जा रहा है कि मामला चौबेपुर ताने का होने के बाद भी थानाध्यक्ष पूरे मामले में पीछे-पीछे था, जबकि बाकी थानों की पुलिस आगे चल रही थी, ऐसे में चौबेपुर थाना अध्यक्ष शक के कटघरे में हैं. इसके अलावा पुलिस ने घटना के बाद विकास दुबे के कई ठिकानों पर दबिश भी दी है.

देखिए NewsTop9 टीवी 9 भारतवर्ष पर रोज सुबह शाम 7 बजे

पुलिस को जानकारी मिली थी हो सकता है कि विकास कानपुर से भागकर लखनऊ के कृष्णा नगर स्थित घर पर चला गया हो. हालांकि जब तक पुलिस वहां पहुंची तब तक वह भाग निकला था. लेकिन पुलिस को थोड़ी दूर स्थित उसके छोटे भाई के घर पर उसकी मां और छोटे भाई दीप प्रकाश की पत्नी मिलीं.

पुलिस ने कई ठिकानों पर दी दबिश

पुलिस ने मौके से विकास के छोटे भाई दीप प्रकाश की पत्नी अंजली और भांजी प्रियंका को पूछताछ के लिए हिरासत में ले लिया. वहीं उसकी मां सरला चलने फिरने में असमर्थ थीं, तो उन्हें घर पर ही पुलिस की निगरानी में रखा गया है.

पुलिस ने बताया कि उसका छोटा भाई दीप प्रकाश भी पुलिस के आने के पहले घर से फरार हो गया था. पुलिस ने विकास के घर से कैमरा, पेन ड्राइव और अन्य चीजें जब्त की हैं. साथ ही दीप प्रकाश के घर से उसकी पत्नी अंजली की लाइसेंसी रिवॉल्वर भी पुलिस ने जब्त की है.

ऐसे बेटे को मार देनी चाहिए गोली

कुख्यात अपराधी विकास दुबे के अपराधों के चलते उसकी मां तक परेशान थी. उन्होंने बताया कि सियासत में जाने के लिए उनका बेटा अपराध के रास्ते पर चल दिया था. उन्होंने बताया कि पहले वो बीजेपी के साथ था, फिर उसने बीएसपी का दामन थामा और अब वो समाजवादी पार्टी के साथ जुड़ा था.

विकास की मां ने बताया कि बीजेपी में रहते हुए ही उसने बीजेपी के ही एक कद्दावर नेता की हत्या कर दी थी. विकास के अपराधों और यूपी पुलिस के 8 जवानों की हत्या के बाद उसकी दुखी मां का कहना है कि ऐसे बेटे को तो गोली मार देनी चाहिए.

पुलिस से लूटी इंसास और एके-47 राइफल

इसी बीच कानपुर डीजिपी ऑफिस के प्रेस नोट से बड़ा खुलासा हुआ है. ये खुलासा कानपुर में 8 पुलिसकर्मियों की शहादत के मामले से जुड़ा हुआ है. दरअसल विकास दुबे और उसके साथियों ने पुलिस से एक एके-47 राइफल, एक इंसास राइफल, एक ग्लॉक पिस्टल और दो 9 एमएम पिस्टल लूटी थीं.

Related Posts