अयोध्या के बाद अब काशी, मथुरा के मामले पर सुप्रीम कोर्ट करेगा सुनवाई

साल 1991 में बने प्लेसेस ऑफ वर्शिप एक्ट की धारा 4 में सभी धार्मिक स्थलों की स्थिति 15 अगस्त 1947 वाली बनाए रखने की बात कही गई है. याचिका में इसी को रद्द करने की मांग की गई है.
case of Kashi Mathura, अयोध्या के बाद अब काशी, मथुरा के मामले पर सुप्रीम कोर्ट करेगा सुनवाई

अयोध्या के बाद अब सुप्रीम कोर्ट (Supreme Court) काशी, मथुरा के मामले पर भी सुनवाई करेगा. देश में मौजूद धार्मिक स्थलों का स्वरूप 15 अगस्त 1947 के वक्त जैसा ही बनाए रखने के प्रावधान वाले कानून- ‘प्लेसेस ऑफ वर्शिप एक्ट 1991’ (Places of Worship Act 1991) को चुनौती देने वाली अर्जी पर SC में शुक्रवार यानी कल सुनवाई होगी. ये याचिका विश्व भद्र पुजारी पुरोहित महासंघ ने दायर की है.

देखिये फिक्र आपकी सोमवार से शुक्रवार टीवी 9 भारतवर्ष पर हर रात 9 बजे

सभी धार्मिक स्थलों की मौजूदा स्थिति बनाए रखने के कानून को चुनौती पर सुप्रीम कोर्ट में शुक्रवार को सुनवाई होगी.

संगठन ने कानून को बताया हिंदुओं के खिलाफ

विश्व भद्र पुजारी पुरोहित महासंघ नाम के संगठन का कहना है कि यह कानून हिंदुओं के खिलाफ है. इसके रहते वह काशी-मथुरा समेत उन पवित्र मंदिरों पर दावा नहीं कर सकते जिनके ऊपर जबरन मस्जिद बना दी गई थी. 1991 में बने प्लेसेस ऑफ वर्शिप एक्ट की धारा 4 में सभी धार्मिक स्थलों की स्थिति 15 अगस्त 1947 वाली बनाए रखने की बात कही गई है. याचिका में इसी को रद्द करने की मांग की गई है.

इस याचिका के खिलाफ जमीयत उलेमा ए हिंद भी सुप्रीम कोर्ट पहुंचा है. उसने इस मांग पर विचार न करने का आग्रह किया है.

देखिये परवाह देश की सोमवार से शुक्रवार टीवी 9 भारतवर्ष पर हर रात 10 बजे

Related Posts