Video: ‘शुरुआत में पुलिस मुस्तैदी दिखाती तो बच सकती थी मेरी बच्ची’, पिता ने बयां किया दर्द

बच्ची के गायब होने के बाद जब परिजन थाने पहुंचे तो पुलिस ने उनका नंबर लेकर कहा, 'कोई जानकारी आएगी तो वह सूचना दे देंगे बाकी आप भी देखिए बच्ची है यहां-वहां चली गई होगी.'
अलीगढ़, Video: ‘शुरुआत में पुलिस मुस्तैदी दिखाती तो बच सकती थी मेरी बच्ची’, पिता ने बयां किया दर्द

अलीगढ़: ढाई साल की मासूम की निर्मम हत्या के बाद प्रशासन ने दो मुख्य आरोपियों को पकड़ लिया और लापरवाही बरतने के चलते पांच पुलिसकर्मियों को बर्खास्त भी कर दिया. अब मामले की जांच एक एसआईटी करेगी. हालांकि पुलिस के अब तक के लचर रवैए को देख लड़की के पिता की क्या राय है, ये जानने की कोशिश की टीवी9 भारतवर्ष ने.

मासूम लड़की के पिता ने बताया कि शासन-प्रशासन ने शुरुआत में काफी लचर रवैया अपनाया, अगर वह तेजी दिखाते तो शायद उसकी बेटी की जान बच जाती. उन्होंने कहा, ‘अगर पुलिस शासन शुरुआत में लूजिंग पॉइंट नहीं होता तो मेरी बच्ची की ऐसी हालत नहीं होती.’ हालांकि बच्ची की लाश मिलने के बाद पुलिस ने जिस तरह से कार्रवाई की है उससे वह संतुष्ठ हैं.

इसी के साथ बच्ची के पिता ने अपील की है कि बच्ची के हत्यारों को जल्द से जल्द और कड़ी से कड़ी सजा दी जाए. उन्होंने बच्ची के लापता होने के बाद के वाकये का जिक्र करते हुए कहा कि उन्होंने बताया कि बच्ची के गायब होने के बाद वह 30 तारीख को पुलिस के पास गए थे. उनके मुताबिक पुलिस ने उनका नंबर लेकर कहा, ‘कोई जानकारी आएगी तो वह सूचना दे देंगे बाकी आप भी देखिए बच्ची है यहां-वहां चली गई होगी.’

उसके बाद वह अगले दिन फिर पुलिस के पास पहुंचे. उस दिन उन्होंने रिपोर्ट लिखाई. इसके बाद सीसीटीवी कैमरा वगेराह देखने में ही वक्त जाया कर दिया. उनका कहना है कि अगर पुलिस मुस्तैदी दिखाती तो शायद आज उनकी बच्ची जिंदा होती.

मीडिया में आरोपी और बच्ची के पिता के बीच पैसों के लेन-देन की बात लगातार उठाई जा रही है. इस पर बच्ची के पिता का कहना है कि उनका कोई लेन-देन नहीं था और न ही उन्हें इसकी कोई जानकारी थी. इसी के साथ उन्होंने सरकार से मांग की है कि जिस निर्ममता से उनकी बच्ची की हत्या की गई है वैसा ही सलूक उसके अपराधियों के साथ भी होना चाहिए.

ये भी पढ़ें: अलीगढ़ में मासूम के कत्‍ल पर ‘खूनी’ खेल खेलने वालो शर्म करो

Related Posts