बुलंदशहर हिंसा के मुख्य आरोपी योगेश राज की जमानत याचिका को इलाहाबाद हाई कोर्ट ने दी मंजूरी

3 दिसंबर 2018 को महाव गांव में मवेशी का शव मिलने के बाद भड़की हिंसा, आगजनी और पथराव की घटना के दौरान सब इंस्पेक्टर सुबोध कुमार सिंह की हत्या कर दी गई थी. इस हिंसा में बजरंग दल का स्थानीय नेता योगेश राज मुख्य आरोपी था.

इलाहाबाद हाई कोर्ट ने बुलंदशहर हिंसा के मुख्य आरोपी योगेश राज को जमानत दे दी है. 3 दिसंबर 2018 को महाव गांव में मवेशी का शव मिलने के बाद भड़की हिंसा, आगजनी और पथराव की घटना के दौरान सब इंस्पेक्टर सुबोध कुमार सिंह की हत्या कर दी गई थी. इस हिंसा में बजरंग दल का स्थानीय नेता योगेश राज मुख्य आरोपी था.

गोकशी को लेकर भड़की इस हिंसा में योगेश राज पर आरोप था कि इसने भीड़ को उकसाया था. इसी के साथ योगेश के खिलाफ देशद्रोह का मामला भी दर्ज किया गया था. हालांकि बुधवार को सुनवाई के दौरान बचाव पक्ष की दलीलें स्वीकार करने के बाद इलाहाबाद हाई कोर्ट ने योगेश की जमानत याचिका को मंजूरी दे दी.

योगेश राज के वकील आनंदपति तिवारी ने कहा कि अदालत ने हमारी दलीलों की सुनवाई करने के बाद जमानत याचिका स्वीकार कर ली है. कोर्ट ने एक महीने पहले 26 अगस्त को अन्य आरोपियों आशीष चौहान और सतेंद्र की जमानत याचिका मंजूर कर ली थी. योगेश का मामला भी उन आरोपियों के समकक्ष ही था. ऐसे में हाई कोर्ट ने बचाव पक्ष की दलीले स्वीकार करते हुए जमानत का आदेश दिया.

मालूम हो कि योगेश राज बुलंदशहर हिंसा के मुख्य आरोपी के तौर पर दिसंबर से ही जेल में था. बुलंदशहर हिंसा का एक और आरोपी शिखर अग्रवाल, जो कि बीजेपी युवा मोर्चा का कार्यकर्ता भी है, पहले से ही जमानत पर है.

ये भी पढ़ें: नौकरी के बहाने असम से लड़की को लाए और बेचा, दिल्ली महिला आयोग ने बचाया