मास्क और सेनेटाइजर की कमी से जूझ रहे उत्तर प्रदेश के एंबुलेंस कर्मी एक साथ हड़ताल पर

इन एंबुलेंस कर्मियों का कहना है कि इन्हें एंबुलेंस में मास्क, सेनेटाइजर, ग्लव्स जैसे जरूरी सामान तक उपलब्ध नहीं कराए गए हैं. जबकि संक्रमण का सबसे ज्यादा खतरा इन्ही लोगों को होता है.
Ambulance personnel of Uttar Pradesh on strike, मास्क और सेनेटाइजर की कमी से जूझ रहे उत्तर प्रदेश के एंबुलेंस कर्मी एक साथ हड़ताल पर

कोरोनावायरस का कहर दुनियाभर में बढ़ता जा रहा है, इस भीषण महामारी का सामना स्वास्थ्य कर्मी दिन रात कर रहे हैं. वहीं उत्तर प्रदेश में स्वास्थ्य कर्मियों को अपनी सर्विस के दौरान काफी मुसीबतों का सामना करना पड़ रहा है और उन्हें इस दौरान जरूरी सुविधाएं भी उपलब्ध नहीं हो रही हैं. ऐसे में पूरे उत्तर प्रदेश के एंबुलेंस कर्मी हड़ताल पर चले गए हैं.

इन एंबुलेंस कर्मियों में 102, 108 और ALS सेवा के लोग भी शामिल हैं. इन कर्मियों का कहना है कि इन्हें एंबुलेंस में मास्क, सेनेटाइजर, ग्लव्स जैसे जरूरी सामान तक उपलब्ध नहीं कराए गए हैं. मालूम हो कि कोरोनावायरस से संक्रमित व्यक्ति को संक्रमण से बचने के लिए इन बुनियादी चीजों की जरूरत होती है और इनपर ही संक्रमण का सबसे ज्यादा खतरा रहता है.

देखिये फिक्र आपकी सोमवार से शुक्रवार टीवी 9 भारतवर्ष पर हर रात 9 बजे

हड़ताल पर गए एंबुलेंस कर्मियों का कहना है कि उनके स्वास्थ्य और सुरक्षा की ओर कोई ध्यान नहीं दे रहा है. उनका कहना है कि वह बिना किसी इंतजाम के अपने हाथों से ही मरीजों को उठाते हैं. बुनियादी जरूरतों की मांग के साथ ही प्रदेश भर के एंबुलेंस कर्मी एकसाथ हड़ताल पर चले गए हैं. जिससे पूरे प्रदेश में 19226 एम्बुलेंस की सेवा ठप पड़ गई है.

मालूम हो कि दुनियाभर में कोरोनावायरस ने तबाही मचाई हुई है. अब तक 8 लाख से ज्यादा लोग इस वायरस की चपेट में आ चुके हैं, जिनमें से 37 हजार से ज्यादा अपनी जान गंवा चुके हैं. भारत में भी अब तक कोरोनावायरस से संक्रमण के 1,400 से ज्यादा मामले सामने आ चुके हैं. वहीं 48 लोग इस वायरस की चपेट में आने के बाद अपनी जान गंवा चुके हैं.

देखिये परवाह देश की सोमवार से शुक्रवार टीवी 9 भारतवर्ष पर हर रात 10 बजे

Related Posts