बरेली: कांवड़ निकालने की परमिशन न मिली, गांववालों ने दी पलायन की धमकी

बरेली जिला मुख्यालय से करीब 70 किलोमीटर दूरी पर स्थित है मिल्क पिछौड़ा गांव. ये गांव वरुण गांधी के लोकसभा क्षेत्र के अंतर्गत आता है.


लखनऊ. सावन के शुरू होते ही उत्तर प्रदेश के बरेली (Bareilly) में सांप्रदायिक तनाव बढ़ने लगा है. बरेली जिले के मिलक पिछौड़ा गांव के हिंदुओं में डर का माहौल है और वह धर्म परिवर्तन का मन बना रहे हैं. गांव के हिंदुओं का आरोप है कि प्रशासन उन्हें कांवड़ निकालने की परमीशन नहीं दे रहा है. साथ ही ये भी आरोप है कि मुस्लिम समुदाय के लोग हिंदू लड़कियों और महिलाओ से छेड़छाड़ करते हैं और जान से मारने की धमकी देते हैं. गांव में हिंदू अल्पसंख्यक हैं, जबकि मुस्लिम बहुसंख्यक हैं. वहीं, इस मामले में मंदिर निर्माण को लेकर पुलिस ने गांव के हिंदुओं के खिलाफ ही मुकदमा दर्ज किया है. हिंदू समुदाय का ये भी आरोप है कि मुस्लिम समुदाय के लोग मंदिर में पूजा नही करने देते हैं और न ही मंदिर का निर्माण करने देते हैं.

मिलक पिछौड़ा गांव बरेली जिला मुख्यालय से करीब 70 किलोमीटर की दूरी पर स्थित है. ये गांव वरुण गांधी के संसदीय क्षेत्र पीलीभीत की बहेड़ी विधानसभा में आता है. इस गांव में 1000 मुसलमानों के मुकाबले करीब 150 हिंदू हैं.

ये है विवाद 

गांव के हिंदू पक्ष का आरोप है कि ग्राम समाज की जमीन पर पिछले 70 वर्षों से एक छोटा सा मंदिर है. जिसका ग्रामीण निर्माण करवाना चाहते है. ग्रामीणों का कहना है कि मुस्लिम समुदाय के लोग उन्हें मंदिर में न तो पूजा करने देते और न ही मंदिर का निर्माण कराने देते हैं. गांव के हिंदुओं का कहना है कि वो लोग जब भी पूजा करने जाते है तो मुस्लिम समुदाय के लोग हाथों में लाठी डंडे और इट पत्थर लेकर आ जाते हैं और मारपीट करते हैं.

मोदी-योगी सरकार में भी हो रहा उत्पीड़न: हिंदू ग्रामीण 

ग्रामीणों का कहना है कि मोदी-योगी की सरकार में भी उनका उत्पीड़न हो रहा है. वे न तो मंदिर में पूजा कर सकते हैं और न ही कांवड़ निकाल सकते हैं. ग्रामीणों का कहना है कि उन्हें कांवड़ निकालने की परमीशन भी नही दी गई है. गांव में मुस्लिम समुदाय के लोग लड़कियों और महिलाओ के साथ छेड़खानी करते हैं और जान से मारने की धमकी भी देते हैं.

ग्रामीणों ने ये भी कहा कि ऐसी हालत में अब गांव में रहना मुश्किल हो गया है. ग्रामीणों का कहना है कि जब मोदी-योगी की सरकार में भी उनकी सुनवाई नही हो रही तो वो लोग धर्म परिवर्तन कर गांव से पलायन कर देंगे. ग्रामीणों ने पुलिस प्रशासन पर भी इकतरफा कार्यवाही का आरोप लगाया है. उनका कहना है कि पुलिस ने हिंदू समाज के सैकड़ो लोगो के खिलाफ मुकदमा दर्ज कर लिया है और सभी को मुचलका पाबंद भी किया गया है. बीजेपी के बूथ अध्यक्ष का आरोप है कि उनकी सरकार में भी हिंदुओं की कोई सुनवाई नही हो रही इसलिए वो धर्म परिवर्तन करेंगे.

नियम के विरुद्ध काम कर रहे ग्रामीण: एसएसपी

वहीं इस मामले में एसएसपी मुनीराज का कहना है कि ग्रामीण नया मंदिर बनाना चाहते है जो कि नियम विरुद्ध है. उनका कहना है कि सुप्रीम कोर्ट के आदेश के अनुशार किसी नए धर्मिक स्थल का निर्माण नही किया जाएगा. उनका कहना है कि कावड़ यात्रा की नई परंपरा को परमीशन नही दी गई है और विवाद करने वालो के खिलाफ एफआईआर दर्ज की गई है. गांव में एहतियात के तौर पर पुलिस तैनात कर दी गई है. वहीं, ग्रामीणों के धर्मपरिवर्तन और पलायन का मामला सामने आने पर पुलिस प्रशासन में हड़कंप मचा हुआ है.

ये भी पढ़ें: कुलभूषण जाधव को काउंसलर एक्सेस नहीं देना पाक की भूल, पाकिस्तान के राष्ट्रपति का बयान

ये भी पढ़ें: कौन हैं प्रीति पटेल? जिन्होंने ब्रिटिश होम मिनिस्ट्री से पाकिस्तान की करा दी छुट्टी…