ऑपरेशन भारतवर्ष में बेनकाब हुए प्रवीण निषाद को BJP ने इस सीट से दिया टिकट

प्रवीण निषाद टीवी 9 भारतवर्ष के ख़ुफ़िया कैमरे पर कैद हो गए थे. चुनाव में ब्लैकमनी की बात कबूलने वाले सपा के सांसद को अब बीजेपी ने टिकट दिया है. पढ़िए पूरा मामला-
प्रवीण निषाद, ऑपरेशन भारतवर्ष में बेनकाब हुए प्रवीण निषाद को BJP ने इस सीट से दिया टिकट

नई दिल्ली: ऑपरेशन भारत वर्ष में बेनकाब हुए प्रवीण निषाद को बीजेपी ने संत कबीर नगर से टिकट दिया है. यूपी की हॉट सीट गोरखपुर के सांसद संतोष उर्फ़ प्रवीण निषाद(Pravin nishad) मार्च 2018 में उपचुनाव लड़कर सांसद बने थे. तब वह समाजवादी पार्टी के साथ थे. एक साल बाद ही हालात ऐसे बदले कि पार्टी और मैदान दोनों बदल गए.

प्रवीण निषाद यूपी की सियासत में कई साल से सक्रिय निषाद दल के मुखिया संजय निषाद के बेटे हैं. लेकिन पिछड़ों की राजनीति करने वाले प्रवीण निषाद टीवी 9 भारतवर्ष के ख़ुफ़िया कैमरे पर कैद हो गए थे.

TV 9 भारतवर्ष के अंडरकवर रिपोर्टर्स ने गोरखपुर से समाजवादी पार्टी के सांसद प्रवीण निषाद के घर पहुंचकर बताया कि वो पॉलिटिकल फंड देने वाली कंपनियों से जुड़े हैं. लिहाज़ा उन्हें चुनाव में करोड़ों रुपये ब्लैकमनी मिल सकता है. ये सुनते ही समाजवादी पार्टी के सांसद प्रवीण निषाद बताने लगे कि 2018 के उपचुनाव में कैसे उन्होंने दोनों हाथों से करोड़ों का कालधन लुटाया था? उन्होंने ये ख़ुलासा भी किया कि इस बार भी लोकसभा चुनाव में करोड़ों का ब्लैकमनी दोनों हाथों से लुटाएंगे.

प्रवीण निषाद, ऑपरेशन भारतवर्ष में बेनकाब हुए प्रवीण निषाद को BJP ने इस सीट से दिया टिकट

अंडरकवर रिपोर्टर ने पैसा फंड फंड कराने के बदले में प्रोटेक्शन की मांग की. इस पर प्रवीण निषाद ने कहा कि काम हो जाएगा,बताइये आप ज़मीन किधर देख रहे हैं, अगर उसमें कोई हमारी मदद चाहिए तो कितनी? इस पर अंडरकवर रिपोर्टर ने कहा करीब 10 एकड़ ज़मीन चाहिए. प्रवीण निषाद ने कहा हम पूरी प्रोटेक्शन देंगे बस कोई गलत काम मत करिएगा.

अंडरकवर रिपोर्टर ने जब गोरखपुर में चुनाव में होने वाले खर्च के बारे में पूछा तो निषाद ने बताया कि लगभग 5-6 करोड़ रुपये खर्च होते हैं. फंडिंग के सवाल पर निषाद ने कहा कि जितनी फंडिंग आप करा सकते हैं उतनी करा दीजिए, जिसपर निषाद ने कहा कि जितनी ज्यादा से ज्यादा हो सके उतनी करा दीजिए क्योंकि हमारे पास 2 लोकसभा सीट हैं. एक गोरखपुर और दूसरी पिताजी की महाराजगंज सीट. प्रवीण निषाद ने कहा कि मैं तो जीत रहा हूं 100 पर्सेंट, पिताजी का थोड़ा बहुत रिस्क रहेगा तो हम उनको राज्यसभा भेजेंगे.

पिछले चुनाव में हुए खर्च के बारे में पूछे जाने पर प्रवीण निषाद ने बताया कि 7-8 करोड़ खर्च हो गए थे. जिसमें लगभग 3.50 करोड़ हमने खर्च किया और 4 करोड़ के आसपास पार्टी ने किया था. प्रवीण निषाद ने बताया छोटी पार्टियों को मैनेज करना पड़ता है, फिर आख़िर में ग्राम सभाओं को भी हम मैनेज करते हैं. मैनेज करने के तरीकों पर बताते हुए निषाद ने बताया कि रैलियों में गाड़ी करवाते हैं तो तकरीबन 60-80 लाख रुपये खर्च होते हैं. इसके अलावा नौजवानों को टी-शर्ट, महिलाओं को साड़ियां भी बांटी जाती हैं.

नोटबंदी के बाद कैश मैनेज करने के लिए प्रवीण निषाद ने बताया कि इसके लिए पार्टी का अकाउंट होता है. इसके अलावा थर्ड पार्टी का अकाउंट भी होता है और ट्रस्ट से भी मैनेज किया जाता है. पैसा देने की बात पर निषाद ने कहा कि हमें कैश दीजिए अगर चेक से जाएगा तो वो तो ऑन रिकॉर्ड होगा, कैश रहेगा तो कोई रिकॉर्ड नहीं रहेगा.

ब्लैकमनी के लिए गोरखपुर के सांसद प्रवीण निषाद की बेचैनी ऐसी थी कि वो न केवल फ़ौरन बताई हुई फ़र्ज़ी कंपनी से मीटिंग के लिए तैयार हो गए, बल्कि चुनाव का हवाला देकर जल्दी मीटिंग का दबाव भी बनाने लगे. प्रवीण निषाद ने यह भी बताया कि चुनाव में अलग से मिलने वाले फंड के अलावा पार्टी भी फंड देती है.

ये भी पढ़ें- Operation Bharatvarsh: SP नेता ने कहा- गाड़ी से लेकर साड़ी तक, सब पर होते हैं करोड़ों खर्च

ये भी पढ़ें- ऑपरेशन भारतवर्ष में पीएम मोदी की रैली में पैसे देकर भीड़ जुटाने का किया था खुलासा, कटा टिकट

ये भी पढ़ें- Video: पप्‍पू यादव ने माना, ऑपरेशन भारतवर्ष में जो दिखा सब   सच, कहा- लोकतंत्र का कोई मतलब नहीं

Related Posts