उपचुनावों की तैयारी में जुटी BJP, नहीं मिलेगा किसी भी सांसद के परिवारवालों को टिकट

2019 लोकसभा चुनावों में कई बीजेपी विधायक सांसद बने हैं, इनमें गोविंदनगर (कानपुर), टूंडला (फिरोजाबाद), कैंट (लखनऊ), जैदपुर (बाराबंकी), मानिकपुर (चित्रकूट), बलहा (बहराइच), गंगोह (सहारनपुर), इगलास (अलीगढ़), प्रतापगढ़, हमीरपुर से बीजेपी के विधायकों को सांसद चुना गया है.

लखनऊ: लोकसभा चुनावों प्रचंड बहुमत से सत्ता पर काबिज हुई भारतीय जनता पार्टी अब उपचुनाव की तैयारी में जुटी हुई है. यूपी की कुल 12 सीटों पर उपचुनाव होने है जिसके लिए बीजेपी खाका तैयार कर रही है. खबर थी कि इस सीटों पर बीजेपी नेताओं के परिवारों ने पहले से ही टिकट की दावेदारी ठोक रखी थी. पार्टी ने इसे भांपते हुए पहले ही साफ कर दिया है कि किसी भी जीते हुए सांसद के परिवारवालों को टिकट नहीं दिया जाएगा.

विधायक से सांसद बने नेताओं नेताओं को लेकर पार्टी ने बड़ा फैसला किया है. बीजेपी उपचुनाव की सीटों पर किसी चुने गए सांसद के परिवार को टिकट नहीं देगी. मतलब इस बार उपचुनाव में सभी सीटों पर नए कार्यकर्ताओं को टिकट दिया जाएगा.

बीजेपी कोर ग्रुप की बैठक में ये फैसला लिया गया है. यूपी में कुल 12 सीटों पर उपचुनाव होने हैं, जिनमें ज्यादातर सीटों पर जीते हुए सांसदों के परिवारों ने गुपचुप तरीके से अपनी दावेदारी ठोक दी थी. पार्टी ने इसे भांपते हुए साफ कर दिया कि किसी भी जीते हुए सांसद के किसी भी रिश्तेदार को टिकट नहीं दी जाएगी.

बीजेपी इन सीटों पर सबसे ज्यादा रामपुर विधानसभा सीट पर जोर लगाए हुए है. समाजवादी पार्टी के चर्चित नेता आजम खान के गढ़ कहे जाने वाले इस क्षेत्र में उत्तर प्रदेश के उप मुख्यमंत्री डॉ. दिनेश शर्मा को रामपुर विधानसभा सीट का

2019 लोकसभा चुनावों में कई बीजेपी विधायक सांसद बने हैं, इनमें गोविंदनगर (कानपुर), टूंडला (फिरोजाबाद), कैंट (लखनऊ), जैदपुर (बाराबंकी), मानिकपुर (चित्रकूट), बलहा (बहराइच), गंगोह (सहारनपुर), इगलास (अलीगढ़), प्रतापगढ़, हमीरपुर से बीजेपी के विधायकों को सांसद चुना गया है.