लूटपाट और भैंस चोरी के मामले में समाजवादी पार्टी नेता आजम खान पर दर्ज हुए मुकदमे

आरोप है कि समाजवादी पार्टी सरकार में 2016 के दौरान आजम खान ने वक्फ मंत्री रहते हुए यतीमों की जगह पर नाजायज कब्जा किया था.

समाजवादी पार्टी सरकार में घोसिखाना के मकान तुड़वाने, भैंसें चोरी करवाने और लूटपाट जैसे मुकदमों में आजम खान ओर पूर्व CO आले हसन सहित 6 पर रामपुर में मुकदमें दर्ज हो गए हैं. थाना कोतवाली में 11 पीड़ितों ने तहरीर दी जिस पर आज यानी गुरुवार को 4 मुकदमे दर्ज किए गए. इसमें एक पीड़ित ने आजम खान पर गैर इरादतन हत्या का मुकदमा भी दर्ज करवाया है.

मालूम हो कि यतीमखाना बस्ती की रहने वाली 90 साल की बुज़ुर्ग महिला शहजादी बेगम सहित 40 बेहद गरीब परिवार कांग्रेस अल्पसंख्यक विभाग के प्रदेश उपाध्यक्ष फैसल खान लाला के नेतृत्व में लंबे समय से आजम खान पर कार्यवाही की मांग कर रहे थे.आरोप है कि समाजवादी पार्टी सरकार में 2016 के दौरान आजम खान ने वक्फ मंत्री रहते हुए यतीमों की जगह पर नाजायज कब्जा किया था.

सरायगेट यतीमखाना बस्ती के लगभग 40 परिवार 50-60 सालों से यतीमखाने में रहते थे, जिसकी किराएदारी की रसीदें और वक्फ विभाग के आवंटन पेपर भी लोगो के पास मौजूद हैं. आरोप है कि 15 अक्टूबर 2016 को लोगों का आवंटन रातों-रात निरस्त कर दिया गया और बल पूर्वक यतीमों को न सिर्फ मारा पीटा गया बल्कि उनके घरों का सामान, भैंसे तक लूट ली गईं.

उसी दौरान शहजादी बेगम नाम की एक महिला को मारा पीटा गया था, जिसके चलते अगले दिन उनकी दहशत से मृत्यु हो गई थी. बाद में उनको घरों से निकालकर उनके घरों पर बुल्डोजर चला दिया गया था. इस जगह पर अब आजम खान की ट्रस्ट के रामपुर पब्लिक स्कूल निर्माधीन है.

पीड़ित परिवारों ने पुलिस अधीक्षक को मुकदमा दर्ज कराने को तहरीर दी है. जिस पर जाकिर, आसिफ, नन्ने और मुन्ने की तहरीर पर पुलिस ने सांसद आज़म खान, तत्कालीन सीओ आले हसन, एसओजी सिपाही धर्मेंद्र सहित कई लोगों पर धारा 304, 452, 354ख 389, 427, 448, 395, 504, 506, 120बी, में थाना कोतवाली में चार अलग अलग मुकदमें दर्ज किए हैं.

ये भी पढ़ें: दीपा मलिक और बजरंग पुनिया को मिला सर्वोच्च खेल सम्मान, पढ़ें किस खिलाड़ी को मिला कौन सा अवॉर्ड