योगी आदित्यनाथ के हाथों नहीं खाया गौमाता ने खाना, बेजुबानों ने खोली अफसरों की पोल

गाय की बछियों को खुश करने के लिए कर्मचारी फल, सब्जी और चने की थाल लेकर आए लेकिन बेजुबानों ने उसे भी मुंह नहीं लगाया.

उत्तर प्रदेश के बांदा पहुंचे मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के तेवर इस बार कुछ बदले बदले से नजर आए. पहले से तय कार्यक्रम में छोटे-छोटे चार बार बदलाव कर अधिकारियों को भी खूब छकाया गया. CM हेलीकॉप्टर से सीधे तिंदवारी कस्बे की कान्हा गौशाला पहुंचे जहां आननफानन में संवारी गई कमियों को वह भांप गए.

हैरानी तो तब हुई जब CM खुद गुड़ की बड़ी थाल लिए लगभग 1 मिनट तक गाय की 2 बछियों के सामने खड़े रहे लेकिन गौमाता ने गुड़ को मुंह तक नहीं लगाया. बाद में साहब को खुश करने के लिए कर्मचारी फल, सब्जी और चने की थाल भी लाये लेकिन बेजुबानों ने उसे भी मुंह नहीं लगाया. तब CM ने वहां मोजूद DM और अन्य अफसरों को तंज कसते हुए कहा कि “जब इन्हें कभी यह सब खिलाया ही नहीं होगा तो अब कैसे खाएंगी.” कुछ न बोलकर बेजुबानों ने लीपापोती करने वाले अफसरों की पोल खोल दी.

इसके बाद योगी ने 5 कक्षों में अलग-अलग स्टोर भी देखे और अफसरों की समझाइश का उनपर कोई खास असर दिखता समझ नही आया. CM ने यह भी पूछा कि इतनी कम जगह में यह गौशाला क्यों बनवाई गई, DM इसका भी कोई संतोषजनक उत्तर नहीं दे सके.

मुख्यमंत्री करीब 20 मिनट तक वहां रहे उसके बाद CM तिंदवारी के सरकारी अस्पताल और खंड विकास कार्यालय पहुंचे, जहां पहले से मौजूद 7 स्वयं सहायता समूहों को मिली गाड़ियों की चाबियां सौंपी. CM ने कार्यक्रम में एक बार फिर बदलाव करते हुए हेलिकॉप्टर से बांदा लौटने की बजाय सड़क मार्ग से होते हुए बांदा लौटे.