रावण की उपस्थिति जीवन में धैर्य से आगे बढ़ने की प्रेरणा देता है: सीएम योगी

थाईलैंड में भगवान श्रीराम की मान्यता का जिक्र करते हुए योगी ने कहा कि वहां के राजा अपने को राम का वंशज मानते हैं.

‘रावण सिर्फ त्रेता युग में नहीं, बल्कि हर युग में होता है, और उसकी उपस्थिति हम सबको जीवन में धैर्य रखते हुए आगे बढ़ने की प्रेरणा देती है’ उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने मंगलवार को गोरखपुर के अंधियारीबाग रामलीला मैदान में भगवान राम के राजतिलक के परंपरागत आयोजन के बाद मौजूद जनसमूह को संबोधित कर रहे थे.

उन्होंने कहा, ‘त्रेता युग के दौरान रावण का दुनिया में आतंक था. मर्यादा पुरुषोत्तम श्रीराम ने 14 साल में जो आदर्श रखा, उसी का परिणाम था कि रावण पर विजय हासिल की. रावण सिर्फ त्रेता युग में नहीं, बल्कि हर युग में होता है. रावण की यह उपस्थिति हम सबको जीवन में धैर्य रखते हुए आगे बढ़ने के लिए प्रेरणा देती है.’

योगी ने कहा, ‘26 अक्टूबर को सरयू तट पर 5.51 लाख दीप जलाए जाएंगे. अयोध्या में इस बार छह देशों की रामलीला का मंचन होगा.इन देशों की भाषा भले ही अलग-अलग होगी, लेकिन सभी के भाव एक होंगे.’

थाईलैंड में भगवान श्रीराम की मान्यता का जिक्र करते हुए योगी ने कहा कि वहां के राजा अपने को राम का वंशज मानते हैं.

मुख्यमंत्री ने रामलीला के आयोजकों से कहा कि वे रामायण शोध संस्थान के लोगों से बात कर विदेश की रामलीला का गोरखपुर में मंचन कराएं.

इससे पहले विजयादशमी के अवसर पर गोरखनाथ मंदिर से निकलने वाली गोरक्षपीठाधीश्वर की परंपरागत विजय शोभा यात्रा मंगलवार शाम श्रद्धा, भक्ति और हर्षोल्लास के वातावरण में धूमधाम से निकली.

शोभा यात्रा में गोरक्षपीठाधीश्वर की गद्दी पर सवार मुख्यमंत्री योगी को देखने के लिए सड़क के दोनों किनारे श्रद्धालुओं की भारी भीड़ लगी रही. गोरखनाथ मंदिर से लेकर गंतव्य स्थान मानसरोवर मंदिर और फिर रामलीला मैदान तक सड़कों और छतों पर खड़े लोगों ने पुष्प वर्षा से शोभायात्रा का स्वागत किया.