मनचलों की शिकायत के बाद भी यूपी पुलिस ने नहीं की कार्रवाई, दलित छात्रा को छोड़ना पड़ा स्कूल

पीड़िता का आरोप है की जब वह स्कूल जाती है तो इलाके के दबंग छोटकन्नू, रितेश और बरकत उसे परेशान करते हैं.

उत्तर प्रदेश के सीतापुर में मनचलों के खौफ से एक दलित छात्रा ने स्कूल जाना बंद कर दिया है. दलित छात्रा पिछले कई महीनों से स्कूल नहीं जा रही है. उसने अपने घर में ही अपनी पढाई शुरू कर दी.

पीड़िता व उसके परिवार के लोगों का कहना है की थाने से लेकर पुलिस अधीक्षक और जिले के अधिकारियों को लिखित शिकायत की गई, लेकिन कोई कार्यवाही नहीं हुई. पीड़िता का ये भी कहना है की जब वह स्कूल जाती है तो गांव के ही तीन मनचले लड़के उसका दुपट्टा खींच लेते हैं और छेड़खानी करते हैं. इतना ही नहीं आरोपी उसपर छींटा कसी भी करते है, जिसके कारण उसका घर से बाहर निकलना मुश्किल हो गया है.

वहीं पीड़िता के परिवार का कहना है कि पुलिस ने दबंगो के खिलाफ कोई कार्रवाई नहीं की जिसकी वजह से वे मनचले आज भी उनके घर के बाहर चक्कर लगाते हैं. वे पीड़िता के घर जाकर धमकी भी देते हैं. उधर स्कूल प्रबंधन भी इन दबंग लड़कों पर कोई कार्यवाही नही कर पा रहा है.

सीतापुर मुख्यालय से 25 किलोमीटर दूर महोली इलाके की रहने वाली पीड़िता पिछले कई महीनों से स्कूल नहीं जा रही है. छात्रा विमला देवी रविन्द्र महा विद्यालय हाजीपुर महोली की बी ए की छात्रा है. मनचलों के कारण पीड़िता की पढ़ाई पर काफी असर पड़ रहा है.

पीड़िता का आरोप है की जब वह स्कूल जाती है तो इलाके के दबंग छोटकन्नू, रितेश और बरकत उसे परेशान करते हैं. दलित पीड़ित परिवार लगातार आरोपियों के खिलाफ अधिकारियों के दरवाज़ों पर चक्कर लगा रहा है लेकिन नतीजा जीरो है.

दलित पीड़िता की मां का कहना है की पुलिस अधिकारियों के इस रवैये से वो काफी टूट चुकी है. उन्होंने ये फैसला किया है की अब वो अपनी बेटी को घर में ही पढ़ाएंगी. इतना ही नहीं उन्होंने इसका इंतज़ाम भी कर दिया है.

वहीं इस पूरे मामले में दलित परिवार की मानें तो पुलिस की कहीं न कहीं आरोपियों से सांठगांठ का मामला भी सामने आ रहा है, जिसके चलते थाने से लेकर जिले के पुलिस के आलाधिकारियों से शिकायत करने के बाद भी कोई कार्रवाई न करने पर सवालियां निशान खड़े हो गए हैं.

 

ये भी पढ़ें-   जब राम जेठमलानी और धर्मेंद्र ने की लिपकिस, Viral हो गया था वीडियो

VIDEO: बाइक सवार दारोगा ने नहीं पहना था हेलमेट, राहगीर ने उठाया सवाल तो ले गए थाने