‘दोषियों को छोड़ना नहीं’, होश में आने पर पूछ रही उन्‍नाव रेप पीड़‍िता- मैं बच तो जाऊंगी?

सफदरजंग अस्पताल में जिंदगी और मौत की जंग लड़ रही पीड़िता ने दर्द में होने के बावजूद दोषियों को सजा दिलाने की बात कही. 

देश में महिलाओं के प्रति बढ़ते अपराधों में कमी नहीं आ रही है. आए दिन देश के किसी न किसी कोने से महिलाओं के साथ हैवानियत के मामले सामने आते रहते हैं. अभी इधर हैदराबाद गैंगरेप एंड मर्डर का मामला थमा ही नहीं था, कि उत्तर प्रदेश के उन्नाव में एक और बेटी वहशी दरिंंदों के चंगुल में फंस गई.

उन्नाव में 20 वर्षीय गैंगरेप पीड़िता का पेट्रोल छिड़क कर उसे आग के हवाले कर दिया गया. हालांकि पीड़िता किसी तरह अस्पताल पहुंची. पीड़िता का 90 प्रतिशत शरीर जल चुका है. उसकी हालत इतनी गंभीर थी कि लखनऊ के डॉक्टर्स ने उसे एयर एंबुलेंस के जरिए दिल्ली के सफदरजंग शिफ्ट करने का फैसला लिया गया.

सफदरजंग अस्पताल में जिंदगी और मौत की जंग लड़ रही पीड़िता ने दर्द में होने के बावजूद दोषियों को सजा दिलाने की बात कही.

पीड़िता रात 8 बजे सफदरजंग अस्पताल पहुंची थी. शुरुआत के 48 से 72 घंटे बहुत अहम होते हैं. हर घंटे हालात बदलती है और पीड़िता की हालत अभी भी नाजुक बनी हुई है.

जानकारी के मुताबिक, पीड़िता कल से ही वेंटीलेटर पर है. वह अभी होश में नहीं है, लेकिन कल रात 9 बजे तक होश में रही और यही कहती रही कि “दोषियों को छोड़ना नहीं.” उसने डॉक्टर से यह भी पूछा कि “मैं बच तो जाऊंगी?”

बर्न डिपार्टमेंट के हेड डॉ. शलभ की देखभाल में पीड़िता का इलाज चल रहा है. उसके साथ अस्पताल में उसका भाई है और उसके अलावा यूपी पुलिस के लोग भी वहां मौजूद हैं.

 

ये भी पढ़ें-  प्रेमी को खुश करने के लिए रची गैंगरेप की झूठी कहानी मगर प्रमी खुद निकला हिस्ट्रीशीटर

‘एक तरफ राम मंदिर बन रहा, दूसरी तरफ सीता मैया को जलाया जा रहा’, लोकसभा में गूंजा उन्‍नाव कांड