मेरठ: प्रेमी की पत्नी को मरवाने के लिए महिला कैशियर ने भेजे तीन शूटर्स, जानें पूरा माजरा

एचडीएफसी बैंक की महिला कैशियर प्रियंका सिंह राजपूत को मैनेजर मुकुल गोयल से सात साल पहले प्यार हो गया था लेकिन...

मेरठ: उत्तर प्रदेश के मेरठ में प्रेम के लिए जान लेने या देने का एक हैरान कर देने वाला मामला सामने आया है. यहां पर अपने प्‍यार को पाने के लिए एक बैंक कैशियर महिला ने अपने शादीशुदा प्रेमी बैंक मैनेजर की पत्‍नी को मरवाने के लिए सुपारी दे डाली. इस मामले में दस लाख रुपये की सुपारी दी गई थी जिसमें से महिला ने शूटरों को एक लाख रुपये बतौर कैश भी दे दिया था. एसटीएफ और पुलिस ने इस मामले में तीनों शूटरों को गिरफ्तार कर लिया है.

सात साल पहले हुआ था प्यार
एचडीएफसी बैंक की महिला कैशियर प्रियंका सिंह राजपूत को मैनेजर मुकुल गोयल से सात साल पहले प्यार हो गया था लेकिन मैनेजर ने परिवार के दबाव में दूसरी लड़की के साथ विवाह कर लिया था. इससे प्रियंका मानसिक तनाव में आ गई थी. इसके बाद उसने अपना प्यार पाने के लिए उसने अपने भाई विवेक राजपूत की मदद से प्रेमी की पत्‍नी को मरवाने का प्लान बनाया और सुपारी दे डाली.

एसटीएफ को तीनों शूटरों की लोकेशन के बारे में इनपुल मिले थे. इसे गंभीरता से लेते हुए लखनऊ की टीम मेरठ पहुंची और मेरठ एसटीएफ से संपर्क किया. इसके बाद मेरठ एसटीएफ और कंकरखेड़ा पुलिस के साथ मिलकर टीम ने इन शूटरों की मुठभेड़ में धरपकड़ की. इसमें सफलता मिली और होटल के कमरे से तीनों सुपारी किलर गिरफ्तार कर लिए गए.

पूछताछ में हुए कई खुलासे
पुलिस ने थाने ले जाकर बदमाशों से पूछताछ की जिसमें एक के बाद एक कई खुलासे हुए. बदमाशों की पहचान विजय निवासी विकास नगर लखनऊ, राजकुमार निवासी चंदौली और अखिलेश वाजपेयी निवासी रामकोट सीतापुर के रूप में हुई है. पुलिस ने बदमाशों के खिलाफ कंकरखेड़ा थाने में मुकदमा दर्ज कराया है.

एसटीएफ अधिकारियों ने बताया है कि प्रियंका मूल रूप से चंदौली की रहने वाली है. वो फिलहाल परिवार के साथ बनारस में रहती है. इस समय प्रियंका की तैनाती एचडीएफसी बैंक की मिर्जापुर शाखा में है. पुलिस ने प्रियंका की गिरफ्तारी के प्रयास शुरू कर दिए हैं.

ये भी पढ़ें-

Photos: भारी बारिश से मुंबई में जारी हुआ रेड अलर्ट, हाई टाइड की संभावना; इन शहरों का भी बुरा हाल

उन्नाव रेप के आरोपी विधायक कुलदीप सेंगर के हथियारों का लाइसेंस रद्द, 15 महीने बाद आया फैसला

ट्रक मालिक की नंबर प्लेट मिटाने की दलील निकली झूठी, समय पर दे रहा था EMI: उन्नाव केस में नया खुलासा

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *