यूपी: वापस नहीं लिया केस तो दरिंदों ने घर में घुसकर गैंगरेप पीड़िता पर फेंका तेजाब

इस हमले में महिला तीस प्रतिशत तक जल गई है और फिलहाल मेरठ के अस्पताल में उनका उपचार चल रहा है.

उत्तर प्रदेश से एक बार फिर महिला हिंसा की एक और वारदात सामने आई है जिसमें चार आदमियों ने एक महिला पर तेजाब से हमला किया है. ये आरोपी पीड़िता पर उनके खिलाफ दर्ज दुष्कर्म की शिकायत को वापस लेने का दबाव बना रहे थे. युवती ने जब ऐसा करने से इनकार कर दिया तो उस पर आरोपियों ने तेजाब फेंक दिया.

इस हमले में महिला तीस प्रतिशत तक जल गई है और फिलहाल मेरठ के अस्पताल में उनका उपचार चल रहा है. महिला का चेहरा, बायां हाथ, पेट-कमर व बायां पैर झुलस गया.

शाहपुर थाने के क्षेत्राधिकारी गिरिजा शंकर त्रिपाठी ने कहा, “ये चारों आदमी बुधवार की रात को महिला के घर में जबरन घुस गए और वहां इन्होंने महिला पर तेजाब फेंक दिया क्योंकि महिला ने उनके खिलाफ यहां के एक अदालत में चल रहे दुष्कर्म के मामले को वापस लेने से इनकार कर दिया था.”

त्रिपाठी ने कहा कि अपराध को अंजाम देने के बाद ये चारों आरोपी फरार है लेकिन इन्हें जल्द ही गिफ्तार कर लिया जाएगा.

पीड़िता ने एसपी देहात नेपाल सिंह को बताया कि तीन महीने पहले मुजफ्फरनगर से लौटते समय गांव के ही तीन लोगों ने कार में लिफ्ट देकर उसके साथ सामूहिक दुष्कर्म किया था.

महिला ने पुलिस से संपर्क करने के बजाय अदालत में इन चारों अभियुक्तों के खिलाफ शिकायत दर्ज कराया था. क्योंकि इससे पहले उसने पुलिस के पास जाकर भी इस संदर्भ में शिकायत दर्ज की थी, लेकिन कोई कार्रवाई नहीं हुई.

पुलिस ने दावा किया है कि दुष्कर्म के होने का कोई सबूत नहीं था जिसके चलते मामले को बंद कर दिया गया था.

ये भी पढ़ें-

उन्नाव गैंगरेप मामले पर सख्त हुई योगी सरकार, 7 पुलिसवालों को किया निलंबित

महिलाओं की सुरक्षा सुनिश्चित करे पुलिस, सिस्टम को आधुनिक बनाने की है जरूरत: PM मोदी