फर्रुखाबाद: महिला का खुलासा, घर में रखता था तमंचे और बम…बच्चों को अंडरग्राउंड छिपाया

सुभाष पर 2001 में हत्‍या का आरोप लगा था, चार महीने पहले उसे चोरी के मामले में पुलिस पकड़कर ले गई थी, तभी से वह मोहल्‍ले के लोगों से रंजिश मानता है. उसे मोहल्‍ले के लोगों ने ही गिरफ्तार कराया था, इसलिए वह बदला लेना चाहता था.
Furrukhabad firing, फर्रुखाबाद: महिला का खुलासा, घर में रखता था तमंचे और बम…बच्चों को अंडरग्राउंड छिपाया

उत्तर प्रदेश के फर्रुखाबाद जिले में एक शख्स ने बच्चों को बंधक बना लिया है. 15 से 20 बच्चों को बंधक बनाया गया है. फर्रुखाबाद की घटना के बाद यूपी के डीजीपी ओपी सिंह ने बच्चों के बंधक बनाए जाने की घटना की पुष्टि की है. जानकारी के मुताबिक, बंधक बनाए जाने वाले शख्स ने अंदर से गोलीबारी भी की है.

फर्रुखाबाद के सांसद मुकेश राजपूत ने बताया कि सुभाष बाथम के साथ अंदर उसका खुद का परिवार और बच्‍चे भी हैं. सांसद ने बताया कि बच्‍चों को हर हाल में बचाने की कोशिश की जाएगी और वो शख्‍स जो भी मांग कर रहा है, उसे इस वक्‍त पूरा करके उसे मनाने की पूरी कोशिश है. सुभाष बाथम ने तीन से चार बजे के बीच दो फायर और चार से पांच बजे के बीच तीन फायर कर दिए. फायरिंग में दो पुलिसकर्मी और एक नागरिक घायल हो गया है, हालांकि, छह बजे के बाद से फायरिंग बंद है.

एक महिला ने बताया कि उस आदमी ने बच्‍चों से कहा कि हमारी बेटी का जन्‍मदिन है, इस तरह वो बच्‍चों को अंदर ले गया. इस महिला का नाम सोनी है, इनके बच्‍चे भी अंदर हैं, उनकी एक बेटी है, जो सुभाष के कब्‍जे में अंदर है. सोनी की बच्‍ची की उम्र 5 साल है, उनका कहना है, करीब 25 बच्‍चे अंदर हैं.

महिला ने बताया कि बच्‍चों को बंधक बनाने वाले शख्‍स के घर में कुल तीन ही लोग हैं, एक सुभाष खुद, दूसरी उसकी पत्‍नी और तीसरी उसकी बच्‍ची. महिला ने बताया कि सुभाष ने अपने घर में बच्‍चों को अंडरग्राउंड रखा हुआ है. सुभाष पर 2001 में हत्‍या का आरोप लगा था, चार महीने पहले उसे चोरी के मामले में पुलिस पकड़कर ले गई थी, तभी से वह मोहल्‍ले के लोगों से रंजिश मानता है. उसे मोहल्‍ले के लोगों ने ही गिरफ्तार कराया था, इसलिए वह बदला लेना चाहता था.

सुभाष बाथम की उम्र 40 साल है और उसके खिलाफ 4 मुकदमे दर्ज हैं. उसके नाम धारा 302 में भी एक मुकादमा दर्ज है. सुभाष का कहना है कि बीजेपी के नेताओं के इशारे पर उसका और उसके परिवार का उत्पीड़न किया गया.

सोनी ने बताया कि सुभाष के घर में तमंचे और बम भी रहते हैं. सोनी ने बताया कि उसने बच्‍चों से कहा कि उसकी बेटी का जन्‍मदिन है और वो एक साल में दो बार अपनी बेटी का जन्‍मदिन मनाता है. गांव की दो महिलाओं ने बताया कि वो बहाने से बच्‍चों को ले गया.

ये भी पढ़ें: बच्चों के रोने की आवाज सुन पहुंचे पड़ोसी, मनाने पहुंचा दोस्त तो उस पर भी दागी गोली

Related Posts