स्टैच्यू ऑफ यूनिटी से भी बड़ी होगी भगवान राम की मूर्ति, ये है अयोध्या के विकास का मास्टर प्लान

अयोध्या में अंतरराष्ट्रीय हवाईअड्डा बनेगा. इसका निर्माण इतना जल्दी होगा कि अप्रैल 2020 में राम नवमी पर पहली उड़ान भरी जा सके.

अयोध्या के विकास के लिए सरकार ने नया मास्टर प्लान तैयार कर लिया है. अमृत मिशन योजना के तहत केंद्र सरकार ने अयोध्या के चहुंमुखी विकास का खाका बनाया है. इस मास्टर प्लान में अयोध्या में फिलहाल मौजूद संसाधान व सुविधाओं को शामिल किया गया है. साथ ही जरूरत की सभी चीजों व सुविधाओं की अयोध्या में मौजूदगी पर ध्यान दिया गया है.

अयोध्या के विकास की तूफानी तैयारी शुरू…

1. सबसे पहले अयोध्या तीर्थ विकास परिषद का गठन होगा.
2. अयोध्या में 100 करोड़ से रेलवे स्टेशन का विस्तारीकरण किया जाएगा.
3. अयोध्या से फैजाबाद के बीच 5 किलोमीटर का फ्लाईओवर बनेगा.
4. अयोध्या में सरयू नदी के किनारे राम भगवान की 251 मीटर की विश्व की सबसे बड़ी (STATUE OF UNITY से भी बड़ी) मूर्ति लगेगी.
5. अयोध्या में बनेगा अंतरराष्ट्रीय हवाईअड्डा जिसका कार्य इतना जल्दी होगा कि अप्रैल 2020 में राम नवमी (रामजन्मोत्सव) पर पहली उड़ान भरी जा सके.
6. अयोध्या में दिसंबर से 5 पांच सितारा होटल का काम शुरू होगा.
7. अयोध्या में दिसम्बर से 10 बड़े रिसोर्ट का काम भी शुरू होगा.
8. 2000 कारीगर 1 दिन में 8 घंटे काम करते है तो 2.5 वर्ष में मंदिर बन कर तैयार हो जाएगा. जबकि अभी 65% पत्थर तराशे जा चुके हैं.
9. अयोध्या में सरयू नदी में क्रूज चलाने की तैयारी है.
10. तिरुपति की तरह अयोध्या नगर बसने में लगेंगे 4 साल का समय लगेगा.
11. भारत के अयोध्या में बनने वाला राम मंदिर देश का सबसे बड़ा धार्मिक स्थल बनेगा.
12. अयोध्या में बनेगा अंतरराष्ट्रीय बस अड्डा.
13. अयोध्या में बनने वाले राम मंदिर के आसपास के 5 किलोमीटर के मंदिर की देखभाल की जिम्मेदारी भी बनने वाला ट्रस्ट देखेगा.
14. मंदिर के पास 77 एकड़ परिसर में कई धार्मिक संस्थान बनेंगे.
15. अयोध्या के राम मंदिर के पास में गो शाला, धर्मशाला ओर वैदिक संस्थान के साथ कई धार्मिक परिसर बनाए जाएंगे.
16. अयोध्या में 10 श्री राम द्वार बनाए जाएंगे.
17. अयोध्या आध्यात्मिक नगरी के रूप में विकसित होगी.
18. 10000 रैनबसेरों का निर्माण होगा.
19. भगवान राम से जुड़े सभी कुंडो का पुर्निर्माण होगा.

दूसरी तरफ, केंद्र सरकार ने अयोध्या में राममंदिर के निर्माण की देखरेख के लिए ट्रस्ट के गठन की प्रक्रिया शुरू कर दी है. सुप्रीम कोर्ट ने अयोध्या मामले पर मालिकाना हक को लेकर दिए गए फैसले में इसका आदेश दिया था. गृह व वित्त मंत्रालय के शीर्ष अधिकारी ट्रस्ट के गठन व उसके नियमों को तय करने का हिस्सा होंगे.

ये भी पढ़ें-

पंजाब: टेरर फंडिंग मामले में बड़ा खुलासा, लुधियाना की नर्स के अकाउंट में आते थे रुपये

हैदराबाद ट्रेन एक्सीडेंट का CCTV फुटेज आया सामने, देखिए कैसे आमने-सामने हुई ट्रेनों की टक्‍कर

जम्मू-कश्मीर के गांदरबल में मुठभेड़, सुरक्षाबलों ने दो आतंकियों को किया ढेर