सोनभद्र में 3000 हजार टन नहीं महज 160 किलो सोना, जियोलजिकल सर्वे ऑफ इंडिया ने कहा

उत्तर प्रदेश के सोनभद्र जिले की सोन और हरदी पहाड़ी में अधिकारियों ने सोना मिलने की पुष्टि की है. साथ ही एंडालुसाइट, पोटाश, लौह अयस्क आदि खनिज संपदा होने की बात भी चर्चा में है.
gold deposits in sonbhadra, सोनभद्र में 3000 हजार टन नहीं महज 160 किलो सोना, जियोलजिकल सर्वे ऑफ इंडिया ने कहा

उत्तर प्रदेश के सोनभद्र जिले की सोन और हरदी पहाड़ी में तीन हजार टन सोना मिलने की संभावना के दावा को जियोलॉजिकल सर्वे ऑफ इंडिया (GSI) ने शनिवार को खारिज कर दिया है. GSI के निदेशक डॉ. जी.एस. तिवारी ने कहा कि “सोनभद्र जिले में सिर्फ 52,806.25 टन स्वर्ण अयस्क मिलने की संभावना है, जिसमें कुल 160 किलोग्राम सोना निकल सकता है.”

सोनभद्र जिले के खनिज अधिकारी के.के. राय ने शुक्रवार को दावा किया था कि “सोनभद्र की सोन पहाड़ी और हरदी पहाड़ी में क्रमश: 2,943.26 टन और 646.16 टन सोने का भंडार मिला है.” लेकिन भारतीय भूवैज्ञानिक सर्वेक्षण (GSI) के निदेशक डॉ. जी.एस. तिवारी ने शनिवार को कहा कि “GSI ने सोनभद्र में इस तरह के भंडार का अनुमान नहीं लगाया है. बल्कि 52,806.25 टन स्वर्ण अयस्क मिला है, न कि शुद्ध सोना.”

उन्होंने बताया कि मिले स्वर्ण अयस्क में सिर्फ 3.03 ग्राम प्रति टन शुद्ध सोना निकल सकता है, जो लगभग पूरे अयस्क में 160 किलोग्राम ही हो सकता है.

वहीं, कोलकाता में GSI के महानिदेशक (Director General) एम. श्रीधर ने कहा कि “GSI की ओर से इस तरह का डाटा किसी को नहीं दिया जाता. GSI ने सोनभद्र में इतना सोना होने का अनुमान नहीं लगाया.”

उन्होंने कहा कि राज्य यूनिट के साथ सर्वे करने के बाद किसी धातु के मिलने की जानकारी साझा की जाती है. GSI (उत्तर क्षेत्र) ने इस क्षेत्र (सोनभद्र) में 1998-99 और 1999-2000 में खुदाई की थी, वह रिपोर्ट उत्तर प्रदेश के डीजीएम के साथ साझा कर दी गयी थी, ताकि आगे की कार्रवाई कर सकें.

श्रीधर ने कहा, “सोने के लिए GSI की तरफ से चली खुदाई संतोषजनक नहीं थी और हम सोनभद्र जिले में सोने के विशाल स्रोत के परिणाम से भी बहुत ज्यादा उत्साहित नहीं थे.”

ये भी पढ़ें- सोनभद्र से 3 हजार टन सोना मिलने के बाद दुनिया में नंबर 2 बन जाएगा भारत, इकोनॉमी पर होगा ये असर

बता दें कि उत्तर प्रदेश के सोनभद्र जिले की सोन और हरदी पहाड़ी में अधिकारियों ने सोना मिलने की पुष्टि की है. इसके अलावा क्षेत्र की पहाड़ियों में एंडालुसाइट, पोटाश, लौह अयस्क आदि खनिज संपदा होने की बात भी चर्चा में है. क्षेत्र के आसपास की पहाड़ियों में लगातार 15 दिनों से हेलीकप्टर से सर्वे किया जा रहा है. बताया जा रहा है कि हवाई सर्वे के माध्यम से यूरेनियम का भी पता लगाया जा रहा है. इसकी मौजूदगी की भी प्रबल संभावना जताई जा रही है.

भारत में सबसे ज्यादा सोना कर्नाटक की हुत्ती खदान से निकाला जाता है. इस लिहाज से भारत में कर्नाटक सोने का सबसे बड़ा उत्पादक राज्य है. इसके बाद आंध्रप्रदेश, दूसरा सबसे बड़ा सोना उत्पादक राज्य है. इनके अलावा झारखंड, केरल और मध्यप्रदेश में भी सोना की छोटी-बड़ी खदानें हैं.

-IANS

Related Posts