CAA पर बवाल: AMU में 5 जनवरी तक छुट्टियां घोषित, सहारनपुर-अलीगढ़ में इंटरनेट सेवा बंद

कुलसचिव का कहना था कि 'फिलहाल परिसर में तनावपूर्ण माहौल बना हुआ है. कुछ असमाजिक तत्वों ने और युवकों ने यहां आकर पथराव किया था.'

अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय में 5 जनवरी 2020 तक छुट्टियां घोषित कर दी गई हैं. छात्रों और पुलिस के बीच प्रदर्शन के दौरान बने तनावपूर्ण माहौल को देखते हुए यह फैसला लिया गया है.

विश्वविद्यालय की ओर से कहा गया है कि बीते तीन दिनों से विवि में असामाजिक तत्वों द्वारा माहौल खराब करने के कोशिश की गई है, जिसे देखते हुए विवि को 5 जनवरी तक बंद किया गया है.

अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय के रजिस्ट्रार अब्दुल हमीद ने बताया कि ‘आगामी 5 जनवरी तक के लिए विश्वविद्यालय को बंद कर दिया गया है. आगे भी विश्वविद्यालय को माहौल ठीक होने पर ही खोला जाएगा.’

वहीं, कुलसचिव का कहना था कि ‘फिलहाल परिसर में तनावपूर्ण माहौल बना हुआ है. कुछ असमाजिक तत्वों ने और युवकों ने यहां आकर पथराव किया था, जिसके बाद विवि प्रशासन ने पुलिस को मौके पर बुलाकर हालात काबू में करने की बात कही.’

नागरिकता कानून के खिलाफ अलीगढ़ मुस्लिम यूनिवर्सिटी के बाहर छात्रों ने प्रदर्शन किया. विरोध के दौरान छात्रों ने पुलिस पर पत्थरबाजी की तो वहीं पुलिस ने प्रदर्शनकारियों पर आंसू गैस के गोले छोड़े.

इस बीच अलीगढ़ में 16 दिसंबर रात 10 बजे तक के लिए इंटरनेट सेवा बंद करने का फैसला लिया गया है. साथ ही सहारनपुर में भी इंटरनेट एहतियात के तौर पर बंद कर दिया गया है. इलाके में अगले आदेश तक इंटरनेट सेवा बंद रहेगी.

दूसरी तरफ, देश की राजधानी दिल्ली के आईटीओ स्थित पुलिस मुख्यालय के बाहर रविवार को प्रदर्शनकारियों ने ‘दिल्ली पुलिस जामिया छोड़ो’ के नारे लगा रहे थे. प्रदर्शकाररियों के एकत्र होने के कारण वहां स्थिति तनावपूर्ण हो गई.

पुलिस मुख्यालय के पास से गुजरने वाले दोनों मुख्यमार्गो को बंद कर दिया गया. दिल्ली के जामिया मिलिया इस्लामिया विश्वविद्यालय इलाके में हुई हिंसा के विरोध में छात्र पुलिस मुख्यालय पर जुटे थे.

ये भी पढ़ें-

जामिया हिंसा: आगजनी-पथराव करने वाली भीड़ ने दी धमकियां, जान बचा के भागे लोग

जामिया हिंसा: कुमार विश्वास ने AAP पर साधा निशाना, बोले- फिर एक बार ‘अमानती गुंडे’ का हुआ इस्तेमाल?

CAA Protests LIVE: जामिया के वीसी ने कहा- लाइब्रेरी से सुरक्षित निकाले गए छात्र, पुलिस की कार्रवाई निंदनीय