Kamlesh Tiwari, कमलेश तिवारी हत्याकांड: नेपाल भागने की फिराक में थे दोनों आरोपी, बीच रास्ते में बदला प्लान
Kamlesh Tiwari, कमलेश तिवारी हत्याकांड: नेपाल भागने की फिराक में थे दोनों आरोपी, बीच रास्ते में बदला प्लान

कमलेश तिवारी हत्याकांड: नेपाल भागने की फिराक में थे दोनों आरोपी, बीच रास्ते में बदला प्लान

आरोपिंयो को बीच रास्ते में अपना प्लान बदलना पड़ा. उन्होंने नेपाल जाने की बजाय शाहजहांपुर जाना तय किया.
Kamlesh Tiwari, कमलेश तिवारी हत्याकांड: नेपाल भागने की फिराक में थे दोनों आरोपी, बीच रास्ते में बदला प्लान

कमलेश तिवारी हत्याकांड में उत्तर प्रदेश के लखीमपुर खीरी जिले के पलिया से सीसीटीवी फूटेज सामने आया है. इसमें यह साफ हो रहा है कि हत्या के दोनों आरोपी नेपाल भागने की कोशिश में थे. दोनों आरोपियों ने पलिया में पहले ई-रिक्शा बुक की और वहां से किराए पर इनोवा कार से निकले. आरोपी गौरीफंटा जाने की फिराक में थे.

बीच रास्ते में बदला प्लान
आरोपिंयो को बीच रास्ते में अपना प्लान बदलना पड़ा. उन्होंने नेपाल जाने की बजाय शाहजहांपुर जाना तय किया. ड्राइवर तौहीद ने लंबा रास्ता होने की वजह से छोटे नाम के अपने एक सहयोगी को साथ ले लिया. रास्ते में एक आरोपी ने तौहीद के मोबाइल से किसी महिला को कॉल किया और उससे कुछ बात की. इनकी बातचीत गुजराती में हो रही थी.

पुलिस हिरासत में ड्राइवर
इसके बाद शाहजहांपुर रेलवे स्टेशन के पास दोनों आरोपी उतर गए. ड्राइवर तौहीद जब वापस निकल गया तभी उस महिला का फोन आया कि जिससे बात हुई थी. तौहीद ने उस महिला को बताया कि वो उतर गए हैं और वो उन्हें छोड़कर 10 किलोमीटर आगे आ गया है.

इसके बाद खाना खाने के लिए जब तौहीद और उसका साथी छोटे एक ढाबे पर रुके, तभी पुलिस ने उन्हें हिरासत में ले लिया. पुलिस इनसे लगातार पूछताछ कर रही है. कमलेश तिवारी हत्याकांड में एक के बाद तार धीरे-धीरे खुलते जा रहे हैं.

कई राज्यों से जुड़ रहे तार
वहीं, कमलेश तिवारी हत्याकांड के तार कई राज्यों से जुड़ रहे हैं. अब तक उत्तर प्रदेश, गुजरात, महाराष्ट्र, पंजाब और कर्नाटक से कनेक्शन सामने आ चुका है. इतने सारे राज्यों से कनेक्शन के चलते पुलिस को शक है कि हत्या के दोनों आरोपी किसी संगठन से जुड़े हो सकते हैं.

मामले की गंभीरता को देखते हुए सरकार इस हत्याकांड की जांच केंद्रीय एजेंसी को सौंप सकती है. इस बीच यह जानकारी सामने आई है कि महाराष्ट्र एटीएस द्वारा गिरफ्तार आसिम अली, आरोपियों अशफाक हुसैन और मोइनुद्दीन अहमद से लगातार संपर्क में था. आसिम ने ही दोनों को कर्नाटक में सरेंडर करने की सलाह दी थी.

ये भी पढ़ें-

ताकत की दवा खाकर आए थे हत्‍यारे, कई साल तक रची साजिश? पढ़ें कमलेश हत्याकांड की पूरी कहानी

कभी गाजियाबाद, कभी शाहजहांपुर…कहीं आपके आसपास तो नहीं कमलेश तिवारी के हत्यारे, ऐसे पहचानें

कमलेश तिवारी के परिवार से मिले कानून मंत्री, बोले- उनसे मेरा खून का रिश्ता, हत्यारों को दिलाएंगे सजा ए मौत

Kamlesh Tiwari, कमलेश तिवारी हत्याकांड: नेपाल भागने की फिराक में थे दोनों आरोपी, बीच रास्ते में बदला प्लान
Kamlesh Tiwari, कमलेश तिवारी हत्याकांड: नेपाल भागने की फिराक में थे दोनों आरोपी, बीच रास्ते में बदला प्लान

Related Posts

Kamlesh Tiwari, कमलेश तिवारी हत्याकांड: नेपाल भागने की फिराक में थे दोनों आरोपी, बीच रास्ते में बदला प्लान
Kamlesh Tiwari, कमलेश तिवारी हत्याकांड: नेपाल भागने की फिराक में थे दोनों आरोपी, बीच रास्ते में बदला प्लान