कमलेश तिवारी हत्याकांड: हो गई दोनों हत्यारों की पहचान, होटल से मिले भगवा कपड़े और बैग – UP पुलिस

लखनऊ मंडल के आयुक्त मुकेश मेश्राम और सीतापुर के डीएम अखिलेश तिवारी की ओर से लिखित आश्वासन के बाद परिवार शनिवार को अंतिम संस्कार करने पर राजी हुआ.

हिंदू समाज पार्टी के अध्यक्ष कमलेश तिवारी के परिजनों ने सीएम योगी से लखनऊ स्थित आवास पर मुलाक़ात की. कमलेश तिवारी के परिवार ने सीएम योगी आदित्यनाथ के सामने 1 मांगे रखी हैं.

वहीं यूपी पुलिस को इस केस में बड़ी सफलता मिली है. सूत्रों का दावा है कि दोनों शूटरों की पहचान कर ली गई है. इसके लिए 60 से अधिक कैमरों की फुटेज खंगाली गई है. कमलेश तिवारी की हत्या करने वाले दोनों युवक 25 फुटेज में दिखाई दिए. 22 घंटे के दौरान कुल 155 कॉल का ब्यौरा खंगाला गया है. इस मामले में पुलिस ने 150 से अधिक लोगों से पूछताछ की है. 12 अफसर समेत कुल 55 पुलिसकर्मी अलग-अलग टॉस्क पर लगाए गए हैं.

यूपी पुलिस के मुताबिक उनको कल रात सूचना मिली की पश्चिमी क्षेत्र अंतर्गत होटल खालसा के कमरे में कुछ भगवा कपड़े और बैग मिले हैं. इस सूचना पर लखनऊ पुलिस मौके पर पहुंची और फील्ड यूनिट को बुलाकर विभिन्न साक्ष्य एकत्रित किए.

इससे पहले शनिवार को कमलेश तिवारी के शव का अंतिम संस्कार कराने के लिए प्रशासन को काफी मशक्कत करनी पड़ी. दोपहर बाद सीतापुर में उनके बड़े बेटे सत्यम तिवारी ने अपने पिता के पार्थिव शरीर को मुखाग्नि दी. अंतिम संस्कार के मद्देनजर महमूदाबाद के बाजार को ऐतिहातन बंद रखा गया और कानून व्यवस्था बनाए रखने के लिए प्रशासन ने बलों की तैनाती कर रखी थी.

LIVE Updates

# कमलेश तिवारी हत्याकांड में पुलिस की तफ्तीश में सामने आ रहा है कि हत्यारे ट्रेन से लखनऊ आए थे. लखनऊ के चारबाग रेलवे स्टेशन से कमलेश के घर का पता पूछते हुए वहां तक पहुंचे. बताया जा रहा है कि हत्यारों की लोकेशन हरदोई से मुरादाबाद होते हुए गाजियाबाद में मिली है. हत्यारों का सुराग लगाने के लिए पुलिस ने 3 मोबाइल नंबर खंगाले हैं. 17 अक्टूबर को एक्टीवेट हुआ मोबाइल नम्बर राजस्थान का निकला. वारदात के एक दिन पहले रात करीब साढ़े 12 बजे कमलेश को कॉल की गई थी. पड़ताल करने पर कानपुर देहात के टैक्सी चालक का निकला मोबाइल नम्बर. हत्यारों को पकड़ने के लिए पुलिस की 10 टीमें लगाई गई. गुजरात भेजी गई टीम को लीड कर रहे हैं लखनऊ के एसपी क्राइम. गुजरात के हवाई अड्डों से दिल्ली और लखनऊ की फ्लाइट के यात्रियों से भी की गई पूछताछ.

# कमलेश तिवारी हत्याकांड के खुलासे में यूपी पुलिस ने झोंकी ताकत. सूत्रों का दावा है कि दोनों शूटरों की पहचान कर ली गई है. इसके लिए 60 से अधिक कैमरों की फुटेज खंगाली गई है. कमलेश तिवारी की हत्या करने वाले दोनों युवक 25 फुटेज में दिखाई दिए. 22 घंटे के दौरान कुल 155 कॉल का ब्यौरा खंगाला गया है. इस मामले में पुलिस ने 150 से अधिक लोगों से पूछताछ की है. 12 अफसर समेत कुल 55 पुलिसकर्मी अलग-अलग टॉस्क पर लगाए गए हैं. फोरेंसिक लैब के 3 विशेषज्ञों से भी मदद ली गई है. एसपी क्राइम समेत 5 पुलिसकर्मी सूरत में पड़ताल करने पहुंचे हैं. एसआईटी गठित करने के साथ डीजीपी ने पूरे ऑपरेशन की कमान संभाली.

# यूपी पुलिस ने दावा किया है कि दोनों हत्यारों की पहचान हो गई है. साथ ही होटल स्टाफ से पूछताछ की जा रही है.

#कमलेश तिवारी का परिवार सीएम योगी से मुलाकात कर रहा है.

#11 मांगें सामने रखेगा परिवार.

# जानाकरी मिली है कि कमलेश तिवारी की हत्या करने वाले सभी आरोपी ट्रेन से यात्रा कर लखनऊ पहुंचे थे.

# कमलेश तिवारी की मां, पत्नी और अन्य परिवार के लोग सीतापुर से लखनऊ के लिए रवाना हुए है. ये सभी सीएम आवास पर योगी आदित्यनाथ से मुलाक़ात करेंगे.

# गौरतलब है कि हिन्दू समाज पार्टी के अध्यक्ष कमलेश तिवारी की शुक्रवार को नाका हिंडोला स्थित खुर्शेदबाग इलाके में उनके घर के अंदर गला रेतकर और गोली मारकर हत्या कर दी गयी थी. इस हत्याकांड के सिलसिले में बिजनौर निवासी आरोपियों मुफ्ती नईम काजमी और मौलाना अनवारुल हक के साथ-साथ गुजरात स्थित सूरत के रहने वाले फैजान यूनुस, मोहसिन शेख और राशिद अहमद को हिरासत में लेकर पूछताछ की गयी है। मामले की जांच के लिये एसआईटी का गठन किया गया है.