कमलेश तिवारी मर्डर: चोट छिपाने के लिए जेब में हाथ डाले घूमता रहा हत्‍यारा

कमलेश तिवारी के हत्‍यारों की पीलीभीत के एक नंबर से भी बात हुई है. बरेली के एक होटल की सीसीटीवी फुटेज से कई नई बातें पता चली हैं.

हिंदू समाज पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष कमलेश तिवारी मर्डर केस में नया खुलासा हुआ है. हत्‍या को अंजाम देते समय एक हमलावर को चोट आई थी. उसे छिपाने के लिए वह पैंट में हाथ डाले घूमता देखा गया. सभी आरोपी हत्‍याकांड के बाद बरेली चले गए थे. वहां एक जानने वाले के यहां शरण ली. उसी ने घायल हमलावर का इलाज कराया. लखनऊ पुलिस की एक टीम बरेली रवाना कर दी गई है.

मिली जानकारी के मुताबिक, कानपुर उतरने के बाद हत्यारे सड़क के रास्ते लखनऊ पहुंचे थे. कानपुर रेलवे स्टेशन के सीसीटीवी से इसकी तस्दीक हुई है. उसी दिन उनकी लोकेशन हरदोई, बरेली और उसके बाद गाजियाबाद में पाई गई. पता चला है कि हत्‍यारों की पीलीभीत के एक नंबर से भी बात हुई है.

कमलेश तिवारी मर्डर केस: CCTV से मिले सुराग

हत्‍या के बाद, सभी बरेली पहुंचे. वहां के एक होटल की सीसीटीवी फुटेज मिली है. कमलेश तिवारी की हत्‍या करते समय मोइनुद्दीन पठान नाम के एक आरोपी के दाहिने हाथ में चोट लगी. उस चोट को छिपाने के लिए मोइनुद्दीन अपनी पैंट की जेब में हाथ डाले बेचैनी से घूमता दिख रहा है.

एसटीएफ की जांच के मुताबिक, हत्याकांड में शामिल अशफाक ने कानपुर के रेल बाजार स्थित कान्हा टेलीकॉम से सूरत की आईडी पर सिम लिया था.

लखनऊ पुलिस ने लखनऊ के होटल खालसा इन से खून से सना भगवा कुर्ता और एक तौलिया बरामद किया है. हत्यारे इसी होटल में रुके थे. इसके अलावा शेविंग किट और मोबाइल फोन के साथ एक बैग भी बरामद किया गया है.

डीजीपी ओपी सिंह ने कहा कि कातिल अपनी पहचान छिपाना नहीं चाहते थे और साथ में उन्होंने सबूत भी छोड़ दिए. DGP ने कहा, “उन्होंने सूरत से मिठाई खरीदी और उसके साथ बिल छोड़ दिया, जिसके माध्यम से मिठाई की दुकान मिल गई और वहां सीसीटीवी में उनकी पहचान हो गई.”

ये भी पढ़ें

कमलेश तिवारी हत्याकांड: पीड़ित परिवार की मदद के नाम पर की जा रही धन उगाही, पुलिस ने किया अलर्ट

कमलेश की मां का बयान- सीएम योगी से मिलकर नहीं हूं संतुष्ट, न्याय नहीं मिला तो उठाएंगे तलवार, VIDEO