कमलेश तिवारी की पत्नी ने कहा- एक बार आरोपियों का चेहरा दिखा दो, अपने हाथों से उन्हें मारना चाहती हूं

कमलेश तिवारी की पत्नी किरण तिवारी ने कहा कि 'जैसे कमलेश तिवारी मुसलमानों के खिलाफ दहाड़ते थे, वैसे हम भी दहाड़ेंगे.'

हिंदू महासभा के पूर्व नेता व हिंदू समाज पार्टी के अध्यक्ष कमलेश तिवारी की हत्या मामले में गुजरात एटीएस ने मंगलवार को दो आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया. दोनों आरोपियों अशफाक हुसैन जाकिर हुसैन शेख और मोइनुद्दीन खुर्शीद पठान को उस समय गिरफ्तार किया गया जब वे राजस्थान से गुजरात में प्रवेश कर रहे थे.

‘पुलिस की कहानी पर भरोसा नहीं’
आरोपियों की गिरफ्तारी पर कमलेश तिवारी की मां कुसुम तिवारी ने कहा उन्हें पुलिस की कहानी पर भरोसा नहीं है. उन्होंने कहा कि ‘जो लोग गिरफ्तार हुए हैं उनकी स्पेशल शिनाख्त होनी चाहिए. अगर वो दोषी हैं तो उनके खिलाफ कार्यवाही होनी चाहिए. किसी निर्दोष को इस मामले में लपेटे में नहीं लिया जाए.’

कुसुम तिवारी ने कहा कि इस मामले की फास्ट ट्रैक अदालत में सुनवाई होनी चाहिए और आरोपियों को सीधे फांसी देनी चाहिए. उन्होंने कहा कि योगी जी ने लापरवाही बरतने वाली नाका पुलिस के खिलाफ कार्यवाही की बात कही थी लेकिन वादा नहीं पूरा किया. नाका थाने के खिलाफ कार्यवाही होनी चाहिए.

‘…जैसे मेरे पति को मारा था’
वहीं, कमलेश की पत्नी किरण ने कहा कि एक बार आरोपियों के चेहरे दिखा दिए जाएं. मैं खुद अपने हांथों से उन्हें मारना चाहती हूं, जैसे मेरे पति को मारा था. साथ ही उन्होंने कहा कि उन्हें सुरक्षा दी जाए क्योंकि अब वो पार्टी की अध्यक्ष हैं और जैसे कमलेश तिवारी मुसलमानों के खिलाफ दहाड़ते थे वैसे हम भी दहाड़ेंगे.

कमलेश के भाई सुधीर तिवारी का कहना कि इस मामले में यूपी पुलिस और डीजीपी की कार्यवाही एकदम खराब रही है. दूसरी तरफ, कमलेश के बेटे सत्यम का कहना है कि आरोपियों की शिनाख्त के बाद ही कुछ कहा जा सकता है. लेकिन हमारी मांग है कि लखनऊ एसएसपी के खिलाफ कार्यवाही हो. पार्टी की अध्यक्ष किरण तिवारी को z श्रेणी की सुरक्षा दी जाए.

गुजरात ATS ने किया गिरफ्तार
बता दें कि दोनों आरोपियों की गिरफ्तारी के बाद एटीएस ने कहा कि ‘दोनों उत्तर प्रदेश के शाहजहांपुर से नेपाल पहुंचे थे. नेपाल से राजस्थान होते हुए गुजरात में प्रवेश कर रहे थे. एटीएस अधिकारियों ने कहा कि शेख मेडिकल रिप्रेजेंटेटिव के रूप में काम करता है, जबकि पठान फूड डिलिवरी ब्यॉय (खाना पहुंचाने वाला) का काम करता है.’

हत्या के कारण के बारे में एटीएस ने कहा कि शुरुआती जांच में पता चला है कि उन्होंने तिवारी के आपत्तिजनक बयान के प्रतिशोध में इस अपराध को अंजाम दिया. डीआईजी हिमांशु शुक्ला के नेतृत्व वाली गुजरात एटीएस टीम ने कहा कि दोनों को परिवार के सदस्यों से पूछताछ और तकनीकी व फिजिकल सर्विलांस के आधार पर पकड़ा गया.

ये भी पढ़ें-

दिल्ली के कनॉट प्लेस में एनकाउंटर, 2 बदमाशों को लगी गोली, 3 गिरफ्तार

कमलेश तिवारी हत्याकांड: हाथ पर हाथ धरे रह गई UP पुलिस और हत्यारे चले गए बाहर

‘हम भी लश्कर-ए-तैयबा बना सकते हैं’ बयान पर पूर्व MLA सुरेंद्र नाथ के खिलाफ FIR दर्ज