Kanpur Encounter केस में थाना प्रभारी सस्पेंड, IG ने कहा- मुखबिरी का शक सच हुआ तो होगी जेल

आईजी मोहित अग्रवाल (IG Mohit Aggarwal) ने इस मामले पर स्पष्ट तौर पर कह दिया है कि अगर विनय तिवारी (Vinay Tiwari) की भूमिका मामले में संदिग्ध पाई गई तो उनके खिलाफ केस दर्ज किया जाएगा.
SO Vinay tiwari suspended, Kanpur Encounter केस में थाना प्रभारी सस्पेंड, IG ने कहा- मुखबिरी का शक सच हुआ तो होगी जेल

कानपुर एनकाउंटर (Kanpur Encounter) में शहीद हुए पुलिसकर्मियों के मामले में जांच-पड़ताल जोरो पर है. अब इस मामले में एक चौकाने वाली बात सामने आई है. मुखबिरी के शक में आईजी मोहित अग्रवाल ने चौबेपुर के थाना प्रभारी विनय तिवारी को सस्पेंड कर दिया है. प्राथमिक जांच में विनय तिवारी पर ही मुखबिरी करने का आरोप लगा है. इसका पता कॉल डिटेल रिकॉर्ड से चला है.

बताया जा रहा है कि इस मामले में विनय तिवारी की भूमिका संदिग्ध है. STF ने थाना प्रभारी को ग्रिल करना शुरू कर दिया है. हिस्ट्रीशीटर विकाश दुबे पर FIR दर्ज करने को लेकर भूमिका संदिग्ध मानी जा रही है. SO विनय तिवारी 307 की FIR लिखने में आनाकानी कर रहे थे.

देखिए NewsTop9 टीवी 9 भारतवर्ष पर रोज सुबह शाम 7 बजे

मुखबिरी की हुई पुष्टि तो SO जाएंगे जेल

आईजी मोहित अग्रवाल ने इस मामले पर स्पष्ट तौर पर कह दिया है कि अगर विनय तिवारी की भूमिका मामले में संदिग्ध पाई गई तो उनके खिलाफ केस दर्ज किया जाएगा. साथ ही उनकी सेवाएं समाप्त कर उन्हें जेल भेज दिया जाएगा. उन्होंने कहा कि अगल तिवारी द्वारा मुखबिरी की गई है और यह साबित होता है तो उनपर कार्रवाई की जाएगी.

ऑनलाइन रिपोर्ट्स के अनुसार, यह बात भी सामने आई है कि जब पुलिस हिस्ट्रीशीटर विकास दुबे को गिरफ्तार करने के लिए दाबिश देने पहुंची थी तो उस वक्त विनय तिवारी टीम से पीछे चल रहे थे. कहा जा रहा है कि शहीद हुए सर्किल ऑफिसर देवेंद्र मिश्रा और विनय तिवारी की बनती नहीं थी, जिसके कारण ही तिवारी पर मिश्रा के खिलाफ विकास दुबे से मुखबिरी करने का शक है.

30 लोगों को लिया हिरासत में

पिछले 24 घंटे में उत्तर प्रदेश (Uttar Pradesh) का मोस्ट वांटेड चेहरा बने विकास दुबे (Vikas Dubey) की तलाश में यूपी पुलिस (UP Police) पूरी रात छापेमारी करती रही. 8 पुलिसकर्मियों पर फायरिंग का आरोपी विकास दुबे घटना के बाद छिपा बैठा है.  शुक्रवार रात पुलिस की करीब बीस टीमें अलग-अलग जिलों में विकास दुबे की तलाश में दबिश देता रहीं. ये वो जगहें थी, जहां पर विकास दुबे के रिश्तेदार और परिचित रहते हैं. पुलिस ने इस मामले में 30 और लोगों को हिरासत में लिया है. पुलिस इनसे पूछताछ कर रही है. पुलिस ने इन लोगों को मोबाइल कॉल डिटेल के आधार पर उठाया है.

विकास के कॉल डिटेल में पुलिसकर्मियों के नंबर

सूत्रों के मुताबिक, पिछले 24 घंटे में इन लोगों से विकास दुबे की बातचीत हुई थी. हैरानी की बात है कि विकास दुबे के फोन की कॉल डिटेल में कुछ पुलिसवालों के नंबर भी सामने आए हैं. ये बेहद हैरान करने वाला तथ्य है.

देखिये #अड़ी सोमवार से शुक्रवार टीवी 9 भारतवर्ष पर शाम 6 बजे

Related Posts