‘मुझे यूपी पुलिस को मत सौंपना’ उज्जैन पुलिस के सामने फूट-फूट कर रोया था विकास दुबे

सूत्रों के मुताबिक एक अधिकारी ने ऑफ द रिकॉर्ड बताया है कि उज्जैन पुलिस (Ujjain police) की पूछताछ में विकास दुबे (Vikas Dubey) करीब तीन से चार बार रोया था.
Vikas Dubey cried bitterly in front of Ujjain police, ‘मुझे यूपी पुलिस को मत सौंपना’ उज्जैन पुलिस के सामने फूट-फूट कर रोया था विकास दुबे

मध्य प्रदेश (Madhya Pradesh) में उज्जैन पुलिस ने विकास दुबे (Vikas Dubey) से करीब 5 घंटे की पूछताछ की थी. इसकी वीडियो ग्राफी भी कराई गई थी. सूत्रों के मुताबिक एक अधिकारी ने ऑफ द रिकॉर्ड बताया है कि उज्जैन पुलिस (Ujjain Police) की पूछताछ में करीब तीन से चार बार विकास दुबे रोया था. उसने ये भी कहा था कि मुझे यूपी पुलिस को मत सौंपना. वरना वो मेरा एनकाउंटर कर देंगे.

विकास ने कहा था कि अगर मैं नहीं मारता तो डीएसपी मुझे मार देता. डीएसपी बार-बार मुझे और बीवी-बच्चों को फंसाने की धमकी देते थे. मेरे बच्चे विदेश में पढ़ रहे हैं उन्हें भी फंसाने की धमकी देते थे. बीवी बच्चों पर झूठे केस लाद रहे थे. बीवी बच्चों को परेशान कर रहे थे. विकास ने पुलिस को बताया कि वो देर रात अलवर से चल कर झालावाड़ और फिर उज्जैन पंहुचा था.

देखिये फिक्र आपकी सोमवार से शुक्रवार टीवी 9 भारतवर्ष पर हर रात 9 बजे

विकास दुबे के मामले पर एक और खुलासा

वहीं उज्जैन एसपी मनोज सिंह ने बताया है कि विकास दुबे देर रात 9:00 बजे राजस्थान परिवहन बस से अलवर पहुंचा वहां से बाबू ट्रेवल्स की बस से झालवाड़ होते हुए सुबह 3:58 पर नाना खेड़ा बस स्टैंड उज्जैन पंहुचा था. जिसके बाद ऑटो किया और सबसे पहले शिप्रा नदी गया फिर महाकाल मंदिर पंहुचा. इससे पहले दो तीन होटल खोजी लेकिन नहीं मिली.

महाकाल दर्शन के लिए हार फूल खरीदने गया. सुरेश कन्हार नाम के युवक ने देखा जिसके बाद पुलिस ने उसे धर दबोचा था. महाकाल मंदिर के निर्गम द्वार पर विकास को धर दबोचा था.  वह पहले भी कई बार दर्शन के लिए उज्जैन आया चुका है.

उन्होंने बताया कि उज्जैन पुलिस की बड़ी सफलता है. अभी और जांच जारी है. उज्जैन में  किसी ने भी सरंक्षण नहीं दिया. आनंद तिवारी के घर नहीं रुका, कोई लिंक नहीं मिली. सभी को छोड़ दिया गया है.

Related Posts