अपने स्वार्थ के लिए सत्ता का दुरुपयोग कर रही है बीजेपी, मायावती ने साधा निशाना

इसके साथ ही मायावती ने उत्तर प्रदेश में पुलिस कमिश्नर सिस्टम को लेकर भी बीजेपी को घेरा.

बहुजन समाज पार्टी (बसपा) की अध्यक्ष मायावती आज अपना 64वां जन्मदिन मना रही हैं. अपने जन्मदिन के मौके पर मायावती ने भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) से लेकर कांग्रेस तक पर निशाना साधा. अपनी प्रेस कांफ्रेंस में मायावती ने जमकर केंद्र की मोदी सरकार को घेरा.

जानें मायवती की प्रेस कांफ्रेस की अहम बातें

# देश की 130 करोड़ जनता के सामने मुश्किलें और तकलीफें है. उधोग धंधो पर जो असर पड़ा है, वो केंद्र सरकार की गलत नीतियों का नतीजा है.

# ये हालात कांग्रेस पार्टी के वक्त में भी हुए थे, जिसके चलते जनता ने कांग्रेस को बाहर का रास्ता दिखाया था. बीजेपी भी अब कांग्रेस के रास्ते पर है. जनता इससे त्रस्त है.

# बीजेपी ने भी कांग्रेस की तरह जनहित के मुद्दो को ताक पर रख दिया है.

# अराजकता और तनाव का माहौल है. गलत नीतियों की वजह से देश में तनाव का माहौल है.

# बीजेपी की इन्हीं कमियों की वजह से कांग्रेस एंड कंपनी इसका फायदा उठा रही हैं. बसपा इन हालातों को लेकर काफी चिंतित है.

# कांग्रेस और बीजेपी पर बोला हमला बोलते हुए मायावती ने कहा- दोनों एक ही थाली के चट्टे-बट्टे हैं. बीजेपी की हालत भी कांग्रेस की तरह ही हो जायेगी.

# बीजेपी ने पूरे देश की जनता को और गरीब-लाचार कर दिया है. बीजेपी की केंद्र और राज्य की सरकार गरीबों के खिलाफ ही काम कर रही है.

# बीजेपी के काम से ज्यादातर तनाव और बेरोजगारी ही फैली है.

# पूरे देश मे किसानों की हालत काफी खराब है. ऐसे मे हमारी पार्टी के लोगों को निर्देश है कि असहाय और गरीबों की ज्यादा मदद करनी चाहिये.

# बीजेपी अपने स्वार्थ के लिए सत्ता का दुरुपयोग कर रही है. जनहित, जनकल्याण और देशहित के मामलों को बीजेपी ने ताख पर रख दिया.

# आज अधिकांश लोग इधर-उधर भागते हुए दिख रहे हैं. आज हमारा देश नेगेटिव कारणों से सुर्खियों में बना हुआ है.

# मौजूदा केंद्र सरकार की संकुचित सोच के चलते आज देश बदतर हालात से जूझ रहा है, पर देश की जनता ने समय-समय पर केंद्र सरकारों को बाहर का रास्ता दिखाया है. देश की जानता आज उसी तरह परेशान है जिस तरह कांग्रेस की सरकार में थी.

# केंद्र की सरकार तनाव, हिंसा, गरीबी के मामले मे कांग्रेस से आगे है. बीजेपी 2019 में वापस आयी, लेकिन अब दोहराव मुश्किल है. बीजेपी से एक-एक करके राज्य फिसले. बीजेपी का कांग्रेस से बदतर हाल होना तय है.

# बसपा केंद्र के हर मूवमेंट से अलग है. बसपा देश की गरीब जनता के साथ है. बीजेपी को एनआरसी, एनपीआर की जिद छोड़ देनी चाहिए.

# गांव देहात के लोग बेरोजगारी से त्रस्त हैं. दलित-आदिवासियों का हाल बेहाल है. मोदी सरकार पूंजीपतियों की सरकार है. महंगाई ने कमर तोड़ी दी है. झूठ बोलने की राजनीति पनपी है.

पुलिस कमिश्नर सिस्टम को लेकर मायावती का बीजेपी पर हमला

इसके साथ ही मायावती ने उत्तर प्रदेश में पुलिस कमिश्नर सिस्टम को लेकर कहा, “मुझे नहीं लगता कि इससे सुधार होगा. ऐसा एक नहीं हज़ार तब्दीलियां पुलिस में हो, लेकिन जब तक अपराधियों के ख़िलाफ़ कार्यवाही ना हो, क़ानून व्यवस्था सुधरने वाली नहीं है. आज क़ानून व्यवस्था ध्वस्त है, महिलाएं महफ़ूज़ नहीं हैं. अगर ठीक से एफ़आईआर हो तो यूपी अपराध में नम्बर एक होगा. यूपी में जंगलराज है. कई अपराधी इनकी पार्टी और सरकार में हैं.”

 

ये भी पढ़ें-   पिता से नफरत, दादा से प्यार करती थीं मायावती, जानिए क्या थी वो वजह?

जम्मू कश्मीर पुलिस की सफाई, आतंकियों के साथ गिरफ्तार डीएसपी को नहीं मिला था राष्ट्रपति मेडल