हाथ काटने की बात करने वाले वरुण गांधी ने ऐसे बदला रंग..

साल 2019 का चुनाव मेनका गांधी और वरुण गांधी दोनों के लिए बेहद चुनौतीभरा लग रहा है. जो मेनका सौम्यता से बोलती थीं वो अचानक कठोर भाषा का उपयोग करने लगी हैं, वहीं आग उगलनेवाले वरुण के मुंह से फूल बरस रहे हैं.
varun gandhi, हाथ काटने की बात करने वाले वरुण गांधी ने ऐसे बदला रंग..

2019 लोकसभा चुनाव में बीजेपी की ओर से यूपी में मां और बेटा विरोधियों से टक्कर ले रहे हैं. ये मां-बेटे हैं मेनका गांधी और वरुण गांधी. मेनका सुल्तानपुर से चुनाव लड़ रही हैं तो वरुण पीलीभीत से ताल ठोक रहे हैं. इस चुनाव की खास बात ये है कि मां और बेटे के बोल एक-दूसरे से बिलकुल उलट सुनने को मिल रहे हैं. आग उगलने वाले वरुण इस बार मंच से बेहद सधी भाषा में बोल रहे हैं जबकि उनकी मां मेनका ने सुल्तानपुर के मुस्लिमबहुल गांव में जो कुछ कहा वो सबने सुना ही था.

वरुण गांधी ने प्रचार के दौरान पीलीभीत में कहा- ‘बस मैं एक चीज़ मुस्लिम भाई को बोलना चाहता हूं कि अगर आपने मुझे वोट दिया तो मुझे बहुत अच्छा लगेगा, अगर आपने मुझे वोट नहीं दिया कोई बात नहीं, तब भी मुझसे काम ले लेना, कोई दिक्कत की बात नहीं.
आगे उन्होंने कहा- ‘मेरी चाय में आपकी चीनी भी यदि पड़ जाए तो मेरी चाय मीठी हो जाएगी. तो क्या इस बार कुछ मुस्लिम चीनी पड़ने वाली है मेरी चाय में? मैं दुनिया को हिंदू और मुस्लिम में नहीं देखता. मैं दुनिया को दो ही छोर में देखता हूं- अपने और पराये.

ज़ाहिर है ये वो भाषा या तेवर नहीं जिसके लिए वरुण कुछ साल पहले विवादों में घिर गए थे. बताया जा रहा है कि अपनी मां मेनका गांधी के विवादित भाषण पर चुनाव आयोग की टेढ़ी नज़रों के बाद वरुण ने संभलकर बोलना ही फायदे में समझा.
दरअसल मेनका गांधी ने भाजपा अल्पसंख्यक प्रकोष्ठ के सुल्तानपुर जिलाध्यक्ष अजादार हुसैन के गांव तुराबखानी में मंच से चेतावनी देते हुए वोट मांगे थे. इसके बाद बवाल मच गया था. चुनाव आयोग ने 15 अप्रैल को मेनका के खिलाफ 48 घंटे का बैन लगा दिया जिस वजह से वो अपना प्रचार नहीं कर सकीं. तब मेनका ने कहा था-  हम खुले हाथ और खुले दिल के साथ आए हैं. आपको कल मेरी ज़रूरत पड़ेगी. ये इलेक्शन तो मैं पार कर चुकी हूं. अब आपको मेरी ज़रूरत पड़ेगी. अब आपको ज़रूरत के लिए नींव डालनी है तो सही वक्त है.
मेनका ने ये भी कहा था कि, मैं जीत रही हूँ लेकिन मुसलमानों के वोट के बिना जीतना मुझे अच्छा नहीं लगेगा….फिर कोई मुसलमान आये किसी काम से तो मेरा मन नहीं करेगा. हम गांधी की छठी औलाद नहीं हैं.

वैसे इस बयान के बाद भी मेनका गांधी बाज नहीं आई थीं. उन्होंने अगले दिन फिर से वोटरों को धमकी दी थी. उन्होंने कहा था कि जब वो पीलीभीत में सांसद थीं तो उन्होंने वोट देनेवालों का क्राइटेरिया तय कर रखा था. वो बोली थीं- जिस गांव से 80, 60 और 50 फीसदी वोट मिलते हैं वहीं पर वे क्रम से काम करती हैं. 80 फीसदी वोट जहां से मिलते हैं उसे A कैटेगरी, 60 फीसदी को B कैटेगरी में, 50 फीसदी को C कैटेगरी में रखते हैं

हालांकि मेनका से जब उनके बयानों को लेकर सफाई मांगी गई तो उन्होंने धमकी देने से इनकार किया. उन्होंने अपने बयान को आधे-अधूरे ढंग से पेश करने का आरोप भी लगाया. इसके उलट वो अल्पसंख्यक समुदाय से अपने प्यार का इज़हार भी करने लगीं.

दिलचस्प है कि मेनका कभी भी कठोर शब्दों के प्रयोग के लिए चर्चा में नहीं रही थीं, इसके उलट दस साल पहले साल 2009 में वरुण गांधी ने पीलीभीत में प्रचार के दौरान मुसलमानों के खिलाफ जो कुछ बोला उसने लोगों को चौंका दिया था. 7 मार्च 2009 को वरुण ने अदालती दस्तावेज़ों के मुताबिक जो कुछ बोला था, वो ये था हिंदू पर हाथ उठा या कार्यकर्ता को डराने-धमकाने या हक छीनने के लिए शिकायत मिलती है तो वरुण गांधी हाथ काट देगा. कमल *** (मुसलमानों के लिए अपमानजनक शब्द) के गले काट देगा. मुस्लिम एक बीमारी है, चुनाव के बाद खत्म हो जाएगी.
वरुण ने कथित तौर पर कहा था, अगर कोई हिंदुओं की तरफ उंगली उठाएगा या समझेगा कि हिंदू कमजोर हैं और उनका कोई नेता नहीं हैं, अगर कोई सोचता है कि ये नेता वोटों के लिए हमारे जूते चाटेंगे तो मैं गीता की कसम खाकर कहता हूं कि मैं उस हाथ को काट डालूंगा.

आगे वो बोले थे कि गांधीजी कहा करते थे कि कोई एक गाल पर थप्पड़ मारे तो उसके सामने दूसरा गाल कर दो ताकि वो इस गाल पर भी थप्पड़ मार सके. यह क्या है. अगर आपको कोई एक थप्पड़ मारे तो आप उसका हाथ काट डालिए कि आगे से वह आपको थप्पड़ नहीं मार सके.

उस समय कोई नहीं जानता था कि वरुण इतना विवादित बयान भी दे सकते हैं. खुद बीजेपी ने उनके बयानों से खुद को अलग कर लिया. बाद में वरुण को जेल तक जाना पड़ा और तीन साल तक मुकदमा लड़ना पड़ा, हालांकि फिर वो बरी भी हो गए. लोग मानते हैं कि राजनीतिक करियर शुरू करने के लिहाज से वरुण ने ऐसा किया था मगर बाद में वो अपनी इस इमेज से खुद ही दूरी बनाते दिखे.

Related Posts