गांव में कोई बच्‍चे को दफन कर गया, पर वो जिंदा था! पढ़ें ‘धरतीपुत्र’ की दांतों तले उंगली दबाने वाली कहानी

स्थानीय (Localites) लोग उसी ओर दौड़ पड़े जहां से उन्‍हें आवाज आ रही थी, चारों तरफ नजर दौड़ाने पर गांववालों (Villagers) को जमीन में दफन बच्‍चे का एक पैर नजर आया, जो हल्‍का सा मिट्टी से बाहर आ रहा था.
child found buried alive in uttar Pradesh, गांव में कोई बच्‍चे को दफन कर गया, पर वो जिंदा था! पढ़ें ‘धरतीपुत्र’ की दांतों तले उंगली दबाने वाली कहानी

उत्तर प्रदेश के सिद्धार्थनगर (Siddharthnagar) में एक ऐसी घटना सामने आई है, जिसे सुनकर हर कोई दंग रह गया. दरअसल, यहां कोई बच्‍चे को दफन करके चला गया, लेकिन शायद उसे नहीं पता रहा होगा कि वो बच्‍चा जिंदा था. ये पूरा मामला तब सामने आया जब गांव वालों ने एक बच्‍चे के रोने की आवाज सुनी.

देखिये #अड़ी सोमवार से शुक्रवार टीवी 9 भारतवर्ष पर शाम 6 बजे

स्थानीय लोग उसी ओर दौड़ पड़े जहां से उन्‍हें आवाज आ रही थी, चारों तरफ नजर दौड़ाने पर गांववालों जमीन में दफन बच्‍चे का एक पैर नजर आया, जो हल्‍का सा मिट्टी से बाहर आ रहा था. लोगों ने तुरंत मिट्टी हटाकर बच्‍चे को बाहर निकाला तो पाया बच्‍चा जीवित है. शिशु को पहले स्थानीय सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र (CHC) में भर्ती कराया गया था. फिर उसे जिला अस्पताल में ट्रांसफर कर दिया गया, जहां उसकी हालत अब स्थिर है.

ये घटना जिले के सुनौरा गांव की है. वजात शिशु को ‘धरतीपुत्र’ नाम दिया गया है. सीएचसी में बच्चे को देखने वाले डॉक्टर मानवेन्द्र पाल ने कहा, “बच्चे को जोगिया सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र में ले जाया गया और उसकी हालत में अब सुधार हो रहा है. उसने कुछ कीचड़ निगल लिया था, लेकिन वह अब ठीक है.” डॉक्टर ने कहा कि बच्चे को लगभग एक हफ्ते तक निगरानी में रखा जाएगा. अस्पताल से छुट्टी मिलने के बाद उसे चाइल्डलाइन भेजा जाएगा.

इस बीच, जोगिया थाना इंचार्ज अंजनी राय ने कहा कि इस मामले में अज्ञात लोगों के खिलाफ मामला दर्ज किया गया है.

देखिये फिक्र आपकी सोमवार से शुक्रवार टीवी 9 भारतवर्ष पर हर रात 9 बजे

 

 

Related Posts