EXCLUSIVE: प्रियंका गांधी की निगरानी में UP कांग्रेस की ‘ओवरहॉलिंग’ पूरी, चीफ बनने की दौड़ में हैं ये नाम

नई UP कांग्रेस कमेटी में हर एक व्यक्ति की ठोस ज़िम्मेदारी होगी और उसकी जवाबदेही तय होगी. फिर पूर्वी UP की नई जिला कमेटियों की घोषणा की जाएगी.

उत्‍तर प्रदेश कांग्रेस में तीन महीनों से चल रही ‘बड़ी ओवरहॉलिंग’ की प्रक्रिया लगभग पूरी हो चुकी है. चंद दिनों के भीतर ही एक नई प्रदेश कांग्रेस कमेटी का गठन और गठन की प्रक्रिया घोषित की जाएगी. नई UP कांग्रेस कमेटी में हर एक व्यक्ति की ठोस ज़िम्मेदारी होगी और उसके जवाबदेही तय होगी. इसके तुरंत बाद पूर्वी उत्तर प्रदेश नई जिला कमेटियों की घोषणा की जाएगी.

यूपी कांग्रेस का नया अध्‍यक्ष बनने की रेस में सबसे आगे लल्‍लू सिंह का नाम है. इसके अलावा प्रमोद तिवारी, राजीव शुक्‍ला और जितिन प्रसाद का नाम भी चर्चा में है. संगठन की ‘ओवरहॉलिंग’ की यही प्रक्रिया पश्चिमी उत्तर प्रदेश में पहले ही शुरू कर दी गई है. AICC सचिवों की टीम इस काम में लग गई है. इसी क्रम में जन-संगठनों, विभागों और प्रकोष्ठों में भी भारी बदलाव घोषित किए जाएंगे.

कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी ने पिछले तीन महीनों से लगातार मीटिंग्‍स का दौर जारी रखा. वे उप्र के हजारों कार्यकर्ताओं और नेताओं से मिलीं. AICC सचिव व कुछ चुनिंदा नेताओं की चार टीमों ने प्रियंका के निर्देश पर जून महीने से ही हर जिले का दौरा करना शुरू किया. इन टीमों ने हर जिले में 2-3 दिन रहकर जांच-पड़ताल की. एक अन्य टीम ने अनौपचारिक स्तर पर हर जिले के संगठन, कामकाज, सक्रियता और जमीनी स्थिति की पड़ताल की.

सबसे मिलीं प्रियंका

प्रियंका गांधी पूर्वी उप्र के संगठन के हर एक जिला अध्यक्ष, हर एक शहर अध्यक्ष, हर एक प्रत्याशी, हर एक प्रभारी से मिलीं. प्रियंका गांधी ने पूरे उत्तर प्रदेश के सभी पूर्व अध्यक्षों, सभी पूर्व नेता विधानमंडल, सभी पूर्व मंत्रियों, सभी पूर्व सांसदों, सभी पूर्व विधायकों व वरिष्ठ नेताओं से मुलाकात की.

सभी वरिष्ठ नेताओं ने एक सुर से UP कांग्रेस कमेटी को छोटा करने एवं युवा लोगों को मौका देने और संघर्षशील कार्यकर्ताओं के सामने लाने की बात कही. सभी वरिष्ठ नेताओं ने प्रियंका गांधी द्वारा प्रदेश के संगठन में किए जा रहे बदलाव और आंदोलन के मुद्दों पर सहमति ज़ाहिर की.

प्रदेश कमेटी में और जिला कमेटियों में सामाजिक संतुलन पर पूरा जोर है. हर वर्ग से प्रतिनिधित्व होना चाहिए. इसके अलावा गरीब-वंचित तबक़ों से और दलित-पिछड़े-अति पिछड़े वर्ग से नेताओं-कार्यकर्ताओं का पूरा सम्मान देने की रणनीति पार्टी की है. यही प्रक्रिया अब पश्चिमी उत्तर प्रदेश के सभी जिलों में चालू की गई है.

उत्तर प्रदेश में बड़े आंदोलन की रूपरेखा पर काम हो रहा है. प्रदेश कांग्रेस द्वारा किसानों के मुद्दे पर बड़ा आंदोलन खड़ा करने की तैयारी है. UP कांग्रेस द्वारा इसी साल के भीतर 1 करोड़ नई सदस्यता का लक्ष्य रखा गया है. प्रियंका गांधी के नेतृत्व में व्यापक जन-सम्पर्क और जन-आंदोलन की तैयारी पर योजनाबद्ध ढंग से काम जारी है.

क्‍या है कांग्रेस की रणनीति

पिछली कांग्रेस कमेटी से 10 गुना छोटी नई प्रदेश कांग्रेस कमेटी
एक दक्ष और तेजतर्रार प्रदेश कांग्रेस कमेटी का निर्माण
प्रदेश कांग्रेस कमेटी में युवा, जमीनी, संघर्षशील और आंदोलनधर्मी चेहरे
नई प्रदेश कांग्रेस कमेटी की औसत आयु 38 से 40 वर्ष
नई प्रदेश कमेटी में कई संघर्षशील महिला चेहरे
काम करने वाले और दौड़ने वाले चेहरों को तरजीह
लड़ाकू तेवर वाले नेताओं और कार्यकर्ताओं को नए नेतृत्व में जगह.
दलित और पिछड़े वर्ग के युवा कार्यकर्ताओं और नेताओं को नेतृत्व में जगह सुनिश्चित
हर जिले में जिला उपाध्यक्ष महिला होगी
वरिष्ठ नेताओं से सलाह मशविरा और उनके सहमति से हो रहे फैसले

ये भी पढ़ें

‘BJP-बजरंग दल को ISI से फंडिंग’, कांग्रेस का बयान से किनारा, कहा- दिग्विजय ही दें सबूत

पत्नी संग बेडरूम में कांग्रेस MLA ने बनाया था टिकटॉक विडियो, सोशल मीडिया पर हो गया वायरल