नोएडा में बस ड्राइवर का कटा हेलमेट न पहनने का चालान, पहले भी हुई हैं गलतियां

बस के मालिक ने कहा कहा कि यह एक अनुचित जुर्माना प्राप्त करने की पहली घटना नहीं थी. लगभग दो महीने पहले, हमारी एक बस पर उसी दिन तीन जुर्माने लगाए गए.

नोएडा के एक ट्रांसपोर्टर से संबंधित बस पर 11 सितंबर को गौतमबुद्धनगर पुलिस ने जुर्माना लगाया था कि उसके ड्राइवर ने हेलमेट नहीं पहना था. मालिक पर 500 रुपए का जुर्माना लगाया गया. बस का मालिक निरंकार सिंह सेक्टर 12 का निवासी है, जो एक ट्रांसपोर्ट कंपनी चलाता है, जो नोएडा, ग्रेटर नोएडा और गाजियाबाद के स्कूलों और विभिन्न कार्यालयों में किराए पर बसें देती है.

सिंह का कहना है कि, “हमारे पास NCR परमिट वाली 80 से अधिक निजी बसें हैं. हमने हमारी गाड़ियों द्वारा किए गए जुर्माने की जांच करने के लिए एक व्यक्ति को नौकरी पर रखा है. वह ही इस खास जुर्माने को को लेकर आया. यह NCR परमिट वाली हमारी एक बस के लिए जारी किया गया था. जाहिर सी बात है कि, हम बस का “नो-हेलमेट” चालान देख कर हैरान गए थे.”

निरंकार सिंह ने कहा कहा कि यह एक अनुचित जुर्माना प्राप्त करने की पहली घटना नहीं थी. लगभग दो महीने पहले, हमारी एक बस पर उसी दिन तीन जुर्माने लगाए गए. रशीद में केवल जुर्माने की राशि का जिक्र है और क्या अपराध है ये नहीं. हमने इस तरह के गलत जुर्माने के बारे में अक्सर ट्रैफिक पुलिस से संपर्क किया है, कोई भी हमारी बात नहीं सुनता है. इसलिए, हम अब अदालत में इन गलत जुर्मानों से लड़ेंगे.

पहले भी काटे गए हैं गलत चालान

उन्होंने यह भी कहा कि कुछ महीने पहले उनकी एक बस पर जुर्माना लगा था, हालांकि जिस फोटो को लेकर चालान काटा गया वह एक ऑटो-रिक्शा का था. सिंह ने कहा, “इसके अलावा, हमने अपनी बीमाकृत बसों में से एक के लिए ऑनलाइन 1,000 का जुर्माना प्राप्त किया था, यह कहते हुए कि बीमा के कागजात गायब थे. ऑनलाइन चालान में बीमा दस्तावेजों की जांच कैसे की जा सकती है?”

इस बीच, ट्रैफिक अधिकारियों ने कहा कि सहायक क्षेत्रीय परिवहन अधिकारी ने बस के लिए हेलमेट जुर्माना जारी किया था और उनको “मैनुअल एरर” के लिए जिम्मेदार ठहराया जा सकता है, जो फोन पर जुर्माना जारी करते समय हुई थी. पुलिस अधीक्षक (यातायात) अनिल कुमार झा ने कहा, “गलती को ठीक किया जाएगा लेकिन बस मालिक के पास पहले से ही अपने वाहनों में सीट बेल्ट न लगाने वाले चालकों के खिलाफ चार लंबित जुर्माने हैं.”

ये भी पढ़ें: तेल कुओं पर हमले के बाद सऊदी अरब और UAE में सैनिकों की तैनाती करेगा अमेरिका