रामजन्मभूमि न्यास अध्यक्ष के खिलाफ पुजारी की आपत्तिजनक टिप्पणी, हिरासत में लेकर पुलिस ने छोड़ा

पुलिस के मुताबिक पुजारी परमहंस दास ने टीवी चैनल पर बहस के दौरान महंत नृत्य गोपाल दास पर आपत्तिजनक टिप्पणी की थी.

रामजन्मभूमि न्यास के अध्यक्ष नृत्यगोपाल दास पर आपत्तिजनक टिप्पणी करने वाले तपस्वी छावनी मंदिर के पुजारी परमहंस दास को गुरुवार को कुछ घंटों के लिए हिरासत में लेकर रिहा कर दिया. पुलिस के अनुसार परमहंस दास ने टीवी चैनल पर बहस के दौरान महंत नृत्य गोपाल दास पर अपमानजनक टिप्पणी की थी, जिसके बाद हुए विरोध को लेकर उन्हें हिरासत में लिया गया था.

बता दें कि गुरुवार को उनकी आपत्तिजनक टिप्पणी पर जमकर बवाल होने लगा था और दर्जनभर भक्तों ने तपस्वी छावनी मंदिर के बाहर जमकर विरोध प्रदर्शन किया. समर्थकों का कहना था कि उनकी टिप्पणी आपत्तिजनक है और उनको गिरफ्तार किया जाना चाहिए.

एसएसपी अयोध्या, आशीष तिवारी ने बताया, ‘हमने परमहंस दास को हिरासत में लिया था, लेकिन बाद में छोटी छावनी मंदिर ने उनके खिलाफ शिकायत दर्ज करने से इनकार कर दिया, इसलिए हमने उन्हें रिहा कर दिया. वहीं, रिहाई के बाद परमहंस दास ने पूरे मामले पर कोई बयान देने से इनकार कर दिया. उन्होंने बताया कि वे कुछ समय के लिए अयोध्या से बाहर बनारस में रहेंगे.

रामजन्मभूमि न्यास की स्थापना विश्व हिंदू परिषद के सदस्यों ने मिलकर 18 दिसंबर, 1985 में की थी और इस न्यास का मकसद अयोध्या में राम मंदिर बनवाना है. संत परमहंस दास को बीते साल भी गिरफ्तार किया गया था, जब उन्होंने राम मंदिर का निर्माण जल्द से जल्द नहीं करने को लेकर अपनी बलि देने की धमकी दी थी.

ये भी पढ़ें-

‘भगवान का नाम खराब मत करो’, वाणी कपूर की ड्रेस पर ‘हरे राम’ लिखा देख भड़के यूजर्स

‘गाजियाबाद पुलिस मुफ्त में खाती है हमारी दुकानों से खाना’, शिकायत पर SSP बोले- दे देंगे पैसा