इस कुत्ते ने बचाई 35 लोगों की जिंदगी और खुद मर गया

कुत्ते की वफादारी की हजारों किस्से हम रोज सुनते आते हैं लेकिन जो कारनामा इस कुत्ते ने किया है वो पहले कभी नहीं सुना होगा.

बांदा: गांव के एक रास्ते में जैकी श्राफ की अर्थी सजी हुई है. गांव वाले आंसू बहा रहे हैं. तभी एक मोती नाम का कुत्ता अपने जबड़े पर एक माला लेकर आता है और उस अर्थी पर डाल देता है. माला डालने के बाद मोती वहीं बैठ जाता है और उसकी आंखों से आंसू गिरते रहते हैं.

ये दृश्य जब गांव वाले देखते हैं तो उनको और रोना आता है. उसके बाद मोती जैकी श्राफ के जनाजे में जाता है और उनकी चिता को आग भी देता है. याद आया आपको कुछ. ये कहानी फिल्म तेरी मेहरबानियां की है. शायद ही कोई शख्स ऐसा होगा जिसने ये फिल्म देखी हो और वो रोया न हो. लेकिन अब ऐसा ही कुछ रियल लाइफ में भी हुआ है.

कुत्ते ने बचाई जिंदगी
उत्तर प्रदेश के बांदा जिले के अतर्रा कस्बे में पालतू कुत्ते ने कुछ ऐसा किया जिसको सुनकर लोग विश्वास नहीं कर रहे. वैसे तो कुत्ते की वफादारी की हजारों किस्से हम रोज सुनते आते हैं लेकिन जो कारनामा इस कुत्ते ने दिखाया है उसपर सबको नाज है.

फर्नीचर शोरुम में लगी थी आग
गुरुवार आधी रात अतर्रा की लखन कॉलोनी की बीच बस्ती में चल रहे बहुमंजिला इमारत के फर्नीचर शोरूम में आग लग गई. बताया जा रहा है कि ये आग बिजली के शॉर्ट सर्किट से लगी. आग से करीब पांच करोड़ रुपये का सामान जलकर राख हो गया. आग की वजह से गैस सिलिंडर में हुए विस्फोट से पड़ोस के चार पक्के मकान भी ध्वस्त हो गए हैं. हालांकि शोरूम मालिक के पालतू कुत्ते ने भौंक कर 35 लोगों की जान बचा दी, मगर वह खुद मारा गया.

कुत्ते ने भौंक कर उठाया सबको
फर्नीचर शोरूम मालिक राकेश चौरसिया ने बताया, “फर्नीचर का शोरूम वह अपने निजी बहुमंजिला इमारत में चला रहे थे. गुरुवार आधी रात बिजली के शॉर्ट से उस समय आग लगी, जब सभी लोग गहरी नींद में थे. आग लगने के बाद पालतू कुत्ते ने भौंकना शुरू किया, जिससे सभी की नींद खुली और पड़ोसियों सहित करीब 35 लोग बाहर निकल आए, लेकिन बंधा होने की वजह से कुत्ता झुलस गया और उसकी मौत हो गई.”

घरेलू गैस सिलिंडर में हुआ था विस्फोट
उन्होंने बताया, “इसी बीच मकान में रखे घरेलू गैस सिलिंडर में विस्फोट हो गया, जिससे पड़ोस के चार पक्के मकान भी ध्वस्त हो गए हैं.” अतर्रा तहसीलदार सुशील सिंह ने बताया, “यह शोरूम बिना पंजीयन के रिहाशी बहुमंजिला इमारत में चल रहा था और अबतक की जांच में आग से बचाव के कोई उपकरण नहीं पाए गए.”

पांच करोड़ का हुआ नुकसान
उन्होंने बताया, “अग्निकांड में करीब पांच करोड़ रुपये का नुकसान हुआ होगा, आंकलन कराया जा रहा है. साथ ही बिना पंजीयन शोरूम संचालित करने पर मालिक के खिलाफ पुलिस में प्राथमिकी भी दर्ज कराई जाएगी.”