Kanpur Encouter: माओवादी स्टाइल में किया अटैक, पोस्टमार्टम में खुलासा- CO के शव से हुई बर्बरता

यह उत्तर प्रदेश के सबसे खूनी एनकाउंटर्स में से एक है. पोस्टमार्टम रिपोर्ट में खुलासा हुआ है कि पुलिस पर किए गए हमले में जैसी क्रूरता बरती गई, वैसी माओवादियों (Maoists) के हमला करने का तरीका है.
Kanpur Bloody Encounters, Kanpur Encouter: माओवादी स्टाइल में किया अटैक, पोस्टमार्टम में खुलासा- CO के शव से हुई बर्बरता

कानपुर एनकाउंटर के मामले में पुलिसकर्मयों की पोस्टमार्टम रिपोर्ट में कई अहम खुलासे हुए हैं. उत्तर प्रदेश (Uttar Pradesh) के कानपुर (Kanpur) में शातिर बदमाशों के साथ हुई मुठभेड़ में 8 पुलिसकर्मी शहीद हो गए थे. पुलिस गांव में बदमाशों को पकड़ने के लिए पहुंची थी कि तभी बदमाशों ने पुलिस की टीम पर अंधाधुंध फायरिंग करना शुरू कर दिया था. यह उत्तर प्रदेश के सबसे खूनी एनकाउंटर्स में से एक है. पोस्टमार्टम रिपोर्ट में खुलासा हुआ है कि पुलिस पर किए गए हमले में जैसी क्रूरता बरती गई, वैसी माओवादियों (Maoists) के हमला करने का तरीका है.

देखिए NewsTop9 टीवी 9 भारतवर्ष पर रोज सुबह शाम 7 बजे

सर्कल अधिकारी के शव से हुई बर्बरता

टाइम्स ऑफ इंडिया की खबर के मुताबिक पोस्टमार्टम रिपोर्ट में खुलासा हुआ है कि DSP रैंक के सर्कल अधिकारी देवेंद्र मिश्रा के सिर और पैर को कुल्हाड़ी से काट दिया गया था. एक सब-इंस्पेक्टर को प्वाइंट-ब्लैंक रेंज से और एक कांस्टेबल को AK-47 की गोलियों से छलनी किया गया था.

एनकाउंटर की जांच कर रहे फॉरेंसिक एक्सपर्ट्स और STF यूनिट्स ने बताया कि जिस तरह से गैंगस्टर विकास दुबे (Vikas Dubey) के कम से कम 60 लोगों ने घात लगाकर पुलिस की टीम पर हमला किया, वह बिलकुल माओवादियों के काम करने के तरीके से मिलता-जुलता है. आधी रात मुठभेड़ के दौरान, गैंगस्टर विकास दुबे ने पुलिस टीम की घेराबंदी करने के लिए छतों पर स्निपर्स तैनात किए थे.

कांस्टेबल पर की गई थी AK-47 से गोलियों की बौछार

डॉक्टरों ने बताया कि सब-इंस्पेक्टर अनूप सिंह के शरीर में सात गोलियां दागी गईं थीं और शिवराजपुर के स्टेशन अधिकारी महेश यादव के शरीर पर भी गोलियां लगीं. फॉरेंसिक एक्सपर्ट्स ने कहा कि कांस्टेबल जितेंद्र पाल पर एके -47 की गोलियों की बौछार की गई और राहुल, बबलू और सुल्तान की भी इस हमले में जान चली गई.

कानपुर रेंज के पुलिस महानिरीक्षक मोहित अग्रवाल ने कहा, “उत्तर प्रदेश में इस तरह का छापामार हमला पहली बार देखा गया है. पहले गंदगी वाली सड़क पर JCB मशीन लगाकर जाल बिछाया गया और फिर गिरोह के सदस्यों ने छत से फायरिंग कर चौंका दिया. ऐसे ही तरीके माओवादियों द्वारा सामान्य तौर पर अपनाए जाते हैं.”

देखिये #अड़ी सोमवार से शुक्रवार टीवी 9 भारतवर्ष पर शाम 6 बजे

Related Posts