BJP ने लगाया बड़ा आरोप, कहा- मजदूरों के लिए कांंग्रेस की बसें असल में ‘सड़कों पर दौड़ती मौत’

बीजेपी प्रवक्ता चंद्रमोहन ने कहा कि प्रियंका गांधी (Priyanka Gandhi Vadra) ने मजदूरों की जान से खिलवाड़ करने का जो माइक्रो प्लान बनाया था उसकी योगी सरकार ने पोल खोल दी है.
Priyanka Gandhi Vadra, BJP ने लगाया बड़ा आरोप, कहा- मजदूरों के लिए कांंग्रेस की बसें असल में ‘सड़कों पर दौड़ती मौत’

उत्तर प्रदेश में सत्तासीन भारतीय जनता पार्टी (BJP) ने कांग्रेस पार्टी और उसके महासचिव प्रियंका गांधी पर बड़ा आरोप लगाया है. बीजेपी प्रवक्ता चंद्रमोहन ने मंगलवार को कहा कि एक तरफ कोरोना (Coronavirus) महामारी के दौरान मजबूर मजदूर दो वक्त की रोटी और अपने घर पहुंचने की आस में रो रहा है. तो दूसरी तरफ कांग्रेस पार्टी उन मजदूरों की मदद करने के बजाय अपनी राजनीति चमकाने में लगी हैं.

बीजेपी नेता ने प्रियंका गांधी पर इस कठिन संकट के समय में भी राजनीति करने का आरोप मढ़ा. उन्होंने कहा कि प्रियंका गांधी वाड्रा (Priyanka Gandhi Vadra) सियासत करने से बाज नहीं आ रही हैं. प्रियंका गांधी ने उत्तर प्रदेश (Uttar Pradesh) सरकार को पत्र लिखकर एक हजार बसों की चलाने की अनुमति मांगी थी, खैर सरकार ने बिना देर किए अनुमति भी दे दी. सूची मिली तो पता चला कि जिन बसों से प्रियंका गांधी प्रवासी मजदूरों को उनके घर पहुंचाना चाहती थीं असल में वो बसें नहीं बल्कि ‘सड़क पर दौड़ती मौत’ होतीं.

देखिये फिक्र आपकी सोमवार से शुक्रवार टीवी 9 भारतवर्ष पर हर रात 9 बजे

चंद्रमोहन ने दावा किया कि प्रियंका गांधी वाड्रा ने जिन बसों की सूची उत्तर प्रदेश सरकार को सौंपी थी उनमें 79 बसें ऐसी थी जो सिर्फ हादसों को दावत देतीं. दावत इसलिए क्योंकि वो बसें पूरी तरह कंडम हो चुकी थी. जो कभी भी किसी भी हादसे का गवाह बन जाती. कांग्रेस पार्टी की 297 बसें या तो कंडम हो चुकी थी या फिर जिनका फिटनेस और बीमा समाप्त हो चुका था. मजे की बात तो यह है कि 100 बसों की डिटेल जब खंगाली गई तो उनमें एंबुलेंस, ट्रक, डीसीएम, थ्री व्हीलर ऑटो जैसे वाहन शामिल थे. यानि उनकी गिनती बसों में होती नहीं हैं. और तो और 70 बसों के बारे में सरकारी रिकॉर्ड ही नहीं है.

बीजेपी प्रवक्ता ने कहा कि ऐसे में सवाल उठता है कि क्या कांग्रेस पार्टी को मजदूरों की जिंदगी से प्यार नहीं है. सवाल ये भी है कि क्या इस तरह का भद्दा मजाक करके कांग्रेस पार्टी खुद को क्या साबित करना चाहती है और सवाल ये भी है कि अगर बसों को भेजने का इतना ही मन था तो उत्तर प्रदेश से पहले पार्टी इन बसों को मुंबई भेज देती जहां मजदूरों पर लाठी चार्ज करने जैसी तस्वीरे नजर आ रही थी.

लिहाजा प्रियंका गांधी वाड्रा को सत्ता के लालच से थोड़ा दूर हटकर उन हादसों को सोचना और देखना चाहिए था जो ऐसी ही कंडम बसों की वजह होते हैं. लेकिन प्रियंका गांधी ने मजदूरों की जान से खिलवाड़ करने का जो माइक्रो प्लान बनाया था उसकी योगी सरकार ने पोल खोल दी.

देखिये परवाह देश की सोमवार से शुक्रवार टीवी 9 भारतवर्ष पर हर रात 10 बजे

Related Posts